NDTV Khabar

Mulk Movie Review: समाज का आइना दिखाती है 'मुल्क', कुछ ऐसी है दमदार कहानी

मुल्क बनारस के मुराद अली और उसके परिवार की कहानी है, जहां मुराद अली के भाई बिलाल का बेटा आतंकवाद के रास्ते पर निकल पड़ता है; लेकिन मुराद और उसका परिवार इस बात से अनजान है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
Mulk Movie Review: समाज का आइना दिखाती है 'मुल्क', कुछ ऐसी है दमदार कहानी

'मुल्क' में ऋषि कपूर और तापसी पन्नू

नई दिल्ली: मुल्क बनारस के मुराद अली और उसके परिवार की कहानी है, जहां मुराद अली के भाई बिलाल का बेटा आतंकवाद के रास्ते पर निकल पड़ता है; लेकिन मुराद और उसका परिवार इस बात से अनजान है. आतंकवादी होने का आरोप मुराद अली और उसके परिवार पर लग जाता है. अब किस तरह ये परिवार अपनी बेगुनाही साबित करेगा और कैसे अपना खोया हुआ सम्मान वापस पाएगा. यह जानने के लिए आपको फ़िल्म देखनी होगी, क्योंकि ये फ़िल्म आज के समाज के हालात भी दर्शाती और साथ ही आपको आइना भी दिखा जाती है.

Mulk Movie Review: 'मुल्क' नहीं मजहब की कहानी है, समाज को दिखाएगी आईना

देखें ट्रेलर-


क्या है खामियां?
इस फ़िल्म के शुरू के 15-20 मिनट में गंगा जमनी तहज़ीब का नज़ारा है, किरदारों को जमाने का सिलसिला भी है और फ़िल्म के इस हिस्से में आप थोड़ा बेचैन होने लगते है और सोचते हैं कि भाई जल्दी मुद्दे पर आओ. यूं तो इस फ़िल्म की वन लाइन देखें तो ऐसा नहीं है की ये कोई हटके कहानी है या कुछ नया है पर इसका ताना बाना इसे ख़ास बनाता है और उसका ज़िक्र मैं ख़ूबियों के दौरान करूंगा. बस खामियां इतनी ही और अब खूबियां.

क्या है खूबियां?
जैसा मैंने ख़ामियों के दौरान कहा कि ये कोई ऐसी कहानी नहीं है जो लीक से हटके हो पर इसे ख़ास बनती है फ़िल्म की स्क्रिप्ट, इसका स्क्रीनप्ले, इसके डायलॉग्स साथ ही इसकी ख़ूबसूरती इसका निर्देशन है. यहां मैं तारीफ़ करूंगा अनुभव सिन्हा की, जिन्होंने एक बड़े मुद्दे के दूसरे पहलू पर रोशनी डाली है. अपनी लिखाई और निर्देशन के ज़रिए उन्होंने समाज पर इशारों-इशारों में तंज़ भी कसे हैं, यहां स्वच्छ भारत का भी चुटकी लेते हुए ज़िक्र है और नोटेबंदी का भी. फ़िल्म की लिखाई की ख़ूबसूरती ये है कि फ़िल्म में आपको ना हिंदू दिखता है ना मुसलमान बस दिखता है तो एक लाचार बाप और उसका परिवार जिसके साथ आपकी आंखों में भी आंसू आ जाएंगे. 

तो इस वजह से Mulk के सेट पर असहज हुए ऋषि कपूर, डायरेक्टर ने खोला राज़

फ़िल्म में अभिनय की बात करें तो यहां हर अभिनेता अभिनय के खेल का मंझा हुआ खिलाड़ी है. मनोज पाहवा ने कमाल की परफॉर्मेंस दी है और वहीं ऋषि कपूर का भी दमदार अभिनय, अपनी बॉडी लैंग्विज से लेकर डायलॉग्स की अदायगी तक उन्होंने अपने किरदार को कहीं भी भटकने नहीं दिया. वहीं आशुतोष राणा एक मंझे हुए एक्टर हैं. वह आपकी आंखें अपने ऊपर से हटने नहीं देंगे और इन सब धुरंधरों के बीच तापसी ने भी इन्हें कड़ी टक्कर दी है. प्रतीक बब्बर का किरदार छोटा है पर असरदार है. इस फ़िल्म का ड्रामा आपको हिलने नहीं देगा, जिसमें बराबर की साझेदारी है.

'फन्नेखां' 'गोल्ड' 'यमला पगला...' जैसी दमदार फिल्मों की टक्कर, अगस्त में रिलीज होंगी ये 15 बॉलीवुड मूवी

इसके अलावा कुछ डायलॉग्स जहां पर शुरुआती एक लाइन के बाद आपको लगता है कि फ़िल्म क्लीशे होने वाली है पर ऐसा होता नहीं है. मुल्क एक बेहतरीन फ़िल्म जिसकी गिरफ़्त से आप सिनेमाघर से बाहर निकल कर भी रहते हैं. इस फिल्म को 4 स्टार्स.

टिप्पणियां
कास्ट एंड क्रू : ऋषि कपूर, तापसी पन्नु, आशुतोष राणा, नीना गुप्ता, मनोज पाहवा, कुमुद मिश्रा, प्रतीक बब्बर
निर्देशन: अनुभव सिन्हा 
बैक ग्राउंड स्कोर: मंगेश धाकड़े 
कैमरामैन: एवान मलिगन

Video: फिल्म ‘मुल्क’ की टीम से खास मुलाकात
 

...और भी हैं बॉलीवुड से जुड़ी ढेरों ख़बरें...


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement