NDTV Khabar

मदद के लिये भीख का कटोरा लेकर मंत्रियों को विदेश भेज केरलवासियों को अपमानित न करे राज्य सरकार : कांग्रेस

कांग्रेस नेता और पूर्व मुख्यमंत्री ओमन चांडी ने भी कहा कि राज्य सरकार विदेशी दौरे की योजना को छोड़ दें और इसके बजाय मंत्रियों को जिलों का प्रभार लेना चाहिए और पुनर्वास प्रयासों का समन्वय करना चाहिए. 

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
मदद के लिये भीख का कटोरा लेकर मंत्रियों को विदेश भेज केरलवासियों को अपमानित न करे राज्य सरकार : कांग्रेस

केरल के मुख्यमंत्री पी. विजयन (फाइल फोटो)

नई दिल्ली: केरल में कांग्रेस ने बाढ़ प्रभावित राज्य के पुनर्निर्माण के लिए विदेशी देशों से सहायता लिये जाने की योजना को वापस लिये जाने का राज्य सरकार से आग्रह किया है.    राज्य सरकार ने बाढ़ प्रभावित राज्य के पुनर्निर्माण के लिए विदेशों से धनराशि इकट्टा करने के लिए मंत्रियों को नियुक्त किया है. सरकार के इस फैसले को लेकर निशाना साधते हुए कांग्रेस नेता के वी थॉमस ने सोमवार को कहा,‘‘राज्य सरकार को भीख मांगने के कटोरे के साथ सहायता मांगने के लिए विदेश जाकर केरल के लोगों को अपमानित नहीं करना चाहिए.’’    थॉमस ने मुख्यमंत्री पिनारयी विजयन से इस योजना को वापस लेने का आग्रह करते हुए कहा,‘‘मंत्रियों और अधिकारियों को भीख का कटोरा देकर बाहर के देशों में मत भेजो.’’यह केरलवासियों के आत्मसम्मान और प्रतिष्ठा को ठेस पहुंचायेगा. उन्होंने कहा,‘‘विदेशों में गरिमा के साथ रह रहे भारतीयों और केरलवासियों को अपमानित न करें,’’    

बाढ़ ग्रस्त केरल में लेप्टोस्पायरोसिस का कहर, क्या हैं लक्षण, वजहें और बचाव के उपाय

उन्होंने बाढ़ से नष्ट हुए आधारभूत ढांचे के पुनर्निर्माण के लिए सुझाव भी रखे. केपीसीसी के अध्यक्ष एमएम हसन ने कहा कि मंत्रियों और अधिकारियों के विदेशी दौरों पर जाने से बाढ़ प्रभावित जिलों में पुनर्वास का काम बुरी तरह से प्रभावित होगा. उन्होंने कहा,‘‘अच्छा यह होगा कि मंत्री अपने दौरे की योजना को वापस ले लें.’’ कांग्रेस नेता और पूर्व मुख्यमंत्री ओमन चांडी ने भी कहा कि राज्य सरकार विदेशी दौरे की योजना को छोड़ दें और इसके बजाय मंत्रियों को जिलों का प्रभार लेना चाहिए और पुनर्वास प्रयासों का समन्वय करना चाहिए. 
केरल में हाउस बोट्स बने बेघरों के लिए ठिकाना​


टिप्पणियां
गौरतलब है कि राज्य मंत्रिमंडल ने पिछले सप्ताह गैर निवासी केरलवासियों के जरिये विदेशों से और देश में प्रमुख शहरों से वित्तीय सहायता जुटाने का निर्णय लिया था. 28 मई को मानसून आने के बाद से राज्य में बारिश और बाढ से 483 लोगों की मौत हो चुकी हैं और 14 अन्य लापता है. ​
 

(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement