NDTV Khabar

निर्वाचन आयोग रिश्वत मामला : अदालत ने आरोपी की जमानत याचिका खारिज की

विशेष न्यायाधीश पूनम चौधरी ने सुकेश चंद्रशेखर की जमानत खारिज कर दी.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
निर्वाचन आयोग रिश्वत मामला : अदालत ने आरोपी की जमानत याचिका खारिज की

चुनाव आयोग.

नई दिल्ली: एआईएडीएमके पार्टी में फूट के बाद एक गुट ने चुनाव आयोग के अधिकारियों को घूस देने का प्रयास किया था. दिल्ली की एक विशेष अदालत ने अन्ना द्रमुक (अम्मा) नेता टीटीवी दिनाकरण से जुड़े निर्वाचन आयोग रिश्वत मामले में गिरफ्तार कथित बिचौलिए की जमानत याचिका आज खारिज कर दी. विशेष न्यायाधीश पूनम चौधरी ने सुकेश चंद्रशेखर की जमानत खारिज कर दी. उसे 16 अप्रैल को गिरफ्तार किया गया था. इस मामले में दिल्ली पुलिस ने 14 जुलाई को आरोप पत्र दायर किया था.

अदालत ने कहा, ‘‘जमानत अर्जी खारिज की जाती है. विस्तृत आदेश आज बाद में दिया जायेगा.’’ चंद्रशेखर ने इस आधार पर जमानत मांगी थी कि उससे पूछताछ पूरी हो चुकी है और ऐसी स्थिति में उसे हिरासत में रखे जाने की कोई जरुरत नहीं है. अभियोजक ने यह कहते हुए जमानत का विरोध किया कि इस मामले में जांच चल रही है. सत्र अदालत दो बार उसकी जमानत की अर्जी खारिज कर चुकी है. दिल्ली उच्च न्यायालय ने भी उसकी जमानत याचिका खारिज कर दी थी. अदालत ने इस मामले में दायर आरोप पत्र का संज्ञान लेने के सवाल पर विचार करने के लिए पहले ही तीन अगस्त की तारीख तय कर दी है.

दिल्ली पुलिस की अपराध शाखा ने धोखाधड़ी के उद्देश्य से जालसाजी करने, फर्जी दस्तावेजों को असली दिखाने, जाली दस्तावेज रखने, इसे असली दस्तावेज के रूप में इस्तेमाल करने की मंशा और आपराधिक षडयंत्र समेत आईपीसी के प्रावधानों के तहत कथित अपराधों को लेकर चंद्रशेखर के खिलाफ आरोप पत्र दायर किया है. उस पर भ्रष्टाचार निरोधक अधिनियम के तहत सरकारी सेवकों को अवैध तरीके से प्रभावित कर रिश्वत लेने का आरोप भी लगाया गया है. इन अपराधों में दोषी पाए जाने पर अधिकतम उम्रकैद की सजा का प्रावधान है.
 
पुलिस ने आरोप पत्र में आरोप लगाया कि दिनाकरण और चंद्रशेखर ने अपनी पार्टी के लिए ‘दो पत्ती’ चुनाव चिह्न हासिल करने के लिए निर्वाचन आयोग के अधिकारियों को रिश्वत देने की साजिश रची. पुलिस ने अदालत को बताया कि आरोपी दिनाकरण, उनके करीबी सहयोगी टी पी मल्लिकार्जुन, संदिग्ध हवाला कारोबारी नत्थू सिंह और ललित कुमार के खिलाफ जांच पूरी करने के बाद ही पूरक अंतिम रिपोर्ट सौंपी जाएगी.
VIDEO : जब शशिकला का परिवार पड़ा अलग थलग

चंद्रशेखर को दिनाकरण से कथित तौर पर रुपये लेने के मामले में गिरफ्तार किया गया था। ऐसा आरोप है कि दिनाकरण ने शशिकला धड़े के लिए अन्नाद्रमुक का ‘दो पत्ती’ का चुनाव चिह्न हासिल करने के लिए निर्वाचन आयोग के अधिकारियों को रिश्वत देने के लिए चंद्रशेखर को रुपये दिए थे. दिनाकरण पर अज्ञात स्रोतों से रुपयों की व्यवस्था करने और अवैध तरीकों से चेन्नई से रुपये दिल्ली भेजने का आरोप है.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement