फ्री की चीजों ने लोगों को आलसी बना दिया, सिर्फ BPL परिवारों को ही मिले मुफ्त चावल : कोर्ट

मद्रास उच्च न्यायालय ने कहा है कि जन वितरण सेवाओं के जरिए राशन कार्ड धारकों को मुफ्त में चावल देने की सुविधा को सिर्फ बीपीएल परिवारों तक सीमित रखा जाना चाहिए.

फ्री की चीजों ने लोगों को आलसी बना दिया, सिर्फ BPL परिवारों को ही मिले मुफ्त चावल : कोर्ट

प्रतीकात्मक फोटो.

खास बातें

  • मुफ्त राशन पर मद्रास हाईकोर्ट ने जताई कड़ा आपत्ति
  • कहा- मुफ्त की चीजों ने लोगों को ‘आलसी’ बना दिया है
  • 'मुफ्त चावल सिर्फ बीपीएल परिवारों को मिले'
चेन्नई:

सभी तबके के लोगों को मुफ्त में मिल रहे राशन पर मद्रास हाईकोर्ट ने कड़ी आपत्ति जताई है. कोर्ट ने कहा है कि जन वितरण सेवाओं के जरिए राशन कार्ड धारकों को मुफ्त में चावल देने की सुविधा को सिर्फ बीपीएल परिवारों तक सीमित रखा जाना चाहिए. अदालत ने कहा कि सभी तबके के लोगों को मुफ्त की रेवड़ियां बांटे जाने से लोग ‘आलसी' हो गए हैं. अदालत ने कहा कि सरकार के लिए जरूरतमंदों और गरीबों को चावल और अन्य किराने का सामना देना जरूरी है, लेकिन उत्तरोत्तर सरकारों ने राजनीतिक लाभ के लिए इस तरह का लाभ सभी तबकों को दिया. न्यायमूर्ति एन. किरूबाकरण और न्यायमूर्ति अब्दुल कुद्दूस की पीठ ने कहा, ‘‘परिणामस्वरूप, लोगों ने सरकार से सबकुछ मुफ्त में पाने की उम्मीद करनी शुरू कर दी. 

...अब बंबई, कलकत्ता और मद्रास हाई कोर्ट के नाम बदलने के लिए लाया जाएगा नया विधेयक

नतीजतन वे आलसी हो गए हैं और छोटे-छोटे काम के लिए भी प्रवासी मजदूरों की मदद ली जाने लगी.'' पीठ गुरुवार को पीडीएस के चावल की तस्करी कर उसे बेचने के आरोप में गुंडा कानून के तहत गिरफ्तार एक व्यक्ति द्वारा इसे चुनौती दिए जाने के खिलाफ दायर याचिका पर सुनवाई कर रही थी. 

मद्रास हाईकोर्ट का NHAI को आदेश: VIP और जजों के लिए टोल प्लाजा पर हो अलग लेन

Newsbeep

सुनवाई के दौरान सरकार ने पीठ को बताया गया था कि आर्थिक हैसियत का खयाल किए बगैर सभी राशनकार्ड धारकों को मुफ्त में चावल दिया जाता है.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


VIDEO: राजस्थान के दौसा में बीपीएल कार्ड धारकों के साथ मजाक