NDTV Khabar

तेलंगाना : 700 क्लर्कों की भर्ती होनी थी, आए 10 लाख आवेदन, सैकड़ों PhD-MPhil डिग्रीधारकों की भी अर्ज़ियां

तेलंगाना में क्लर्क रैंक की सिर्फ 700 नौकरियों के लिए 10 लाख से भी ज़्यादा लोगों ने आवेदन किया है, जिनमें सैकड़ों PhD और MPhil की डिग्री रखते हैं...

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
तेलंगाना : 700 क्लर्कों की भर्ती होनी थी, आए 10 लाख आवेदन, सैकड़ों PhD-MPhil डिग्रीधारकों की भी अर्ज़ियां

तेलंगाना में क्लर्क रैंक की सिर्फ 700 नौकरियों के लिए 10 लाख से भी ज़्यादा लोगों ने आवेदन किया है...

हैदराबाद:

तेलंगाना में क्लर्क रैंक की सिर्फ 700 नौकरियों के लिए 10 लाख से भी ज़्यादा लोगों ने आवेदन किया है, जिनमें सैकड़ों PhD और MPhil की डिग्री रखते हैं, और लाखों ऐसे हैं, जिनके पास पोस्ट ग्रेजुएट और ग्रेजुएट डिग्रियां हैं, जबकि यह रिक्तियां ऐसे पद के लिए हैं, जिनके लिए सिर्फ 12वीं की परीक्षा उत्तीर्ण करना काफी है.

तेलंगाना राज्य लोकसेवा आयोग (TSPSC) के अध्यक्ष घंटा चक्रपाणि ने स्वीकार किया, "यह अभूतपूर्व है..." दिसंबर, 2014 में स्थापित आयोग के प्रमुख चक्रपाणि ने NDTV से कहा, "मुझे नहीं लगता, संयुक्त आंध्र प्रदेश में या समूचे दक्षिण भारत में कभी भी इस तरह क्वालिफाइड युवाओं ने किसी जूनियर लेवल पद के लिए इस तरह आवेदन किए हों..." ग्राम राजस्व अधिकारी (VRO) के पद के लिए अर्ज़ी देने वाले 10.58 लाख लोगों में से लगभग 80 फीसदी ने परीक्षा भी दी. पिछली बार VRO के पद के लिए 2011 में आवेदन मांगे गए थे, और तब संयुक्त प्रदेश में छह लाख अर्ज़ियां मिली थीं.

यह भी पढ़ें : उत्तर प्रदेश में चपरासी की 62 वैकेंसी के लिए 93 हजार आवेदन, 3700 पीएचडी धारक भी शामिल


रविवार को हुई परीक्षा में भाग लेने वाले प्रशांत ने बताया, "क्या कर सकते हैं... मैं इलेक्ट्रिकल इंजीनियर हूं... आज की तारीख में सिर्फ BPO में नौकरी मिलती है, और वे भी सिर्फ 15,000 रुपये तनख्वाह देते हैं... जबकि सरकारी नौकरी में सुरक्षा रहती है, और वेतनमान भी प्राइवेट सेक्टर की तुलना में दोगुना होता है..." प्रशांत के दोस्त दुर्गाप्रसाद, जो मैकेनिकल इंजीनियर हैं, ने कहा, "हम आवश्यक अर्हता से ज़्यादा पढ़े-लिखे हैं, लेकिन फिर भी मुझे नौकरी मिलने की उम्मीद नहीं है, क्योंकि प्रतियोगिता बेहद कड़ी है... पीएचडी, पोस्ट ग्रेजुएट और वकील भी शामिल हैं, और हर पद के लिए 1,100 से ज़्यादा लोग मौजूद हैं..."

दोनों युवाओं ने इसी साल डिग्री हासिल की है... उनकी उम्मीदों के अनुरूप नौकरी नहीं मिल पाने के बाद वे उबर और ज़ोमाटो के लिए फूड डिलीवरी ब्वॉय के रूप में काम करने लगे... उनका कहना है, "इस तरह काम कर हम 10 घंटे किसी BPO में काम करने के मुकाबले ज़्यादा कमा सकते हैं..."

​यह भी पढ़ें : भारतीय सेना में 1.5 लाख नौकरियां ख़त्म करने पर विचार, बचे पैसों से खरीदे जाएंगे हथियार

तेलंगाना राज्य लोकसेवा आयोग (TSPSC) के पास एक अनूठा सॉफ्टवेयर है, जो OTR (या वन-टाइम रजिस्ट्रेशन) कहलाता है, जिससे आवेदन करने वालों का विश्लेषण करना बेहद आसान हो जाता है, और सामने आया डेटा काफी अनूठा है... आवेदन करने वालों में 372 पीएचडी हैं, 539 के पास एमफिल की डिग्री है, 1.5 लाख पोस्ट ग्रेजुएट हैं, और कुल चार लाख से ज़्यादा ग्रेजुएट आवेदकों में से दो लाख से ज़्यादा इंजीनियर हैं...

TSPSC स्वीकार करता है कि बहुत ज़्यादा काबिल लोगों के लिए उमके पास बहुत कम नौकरियां हैं. चक्रपाणि ने कहा, "सरकारी नौकरी पाने के इच्छुक बहुत होते हैं, क्योंकि इसमें सुरक्षा रहती है, तनख्वाह अच्छी मिलती है, और स्टेटस भी बनता है... हर पांच साल में वेतनमान संशोधित होता है, और वेतन में 30-40 प्रतिशत की बढ़ोतरी हो जाती है..."

​यह भी पढ़ें : पुलिस भर्ती में महिलाओं और पुरुषों की एक साथ मेडिकल जांच, दो सस्पेंड

एक राजनैतिक और सामाजिक विश्लेषक का कहना है, "VRO दरअसल बेहद ताकतवर होता है, भले ही वह सबसे निचले स्तर पर मौजूद दिखता है... माना जाता है कि वे अलग तरीकों से दो लाख रुपये महीना तक कमा लेते हैं, तो फिर इस नौकरी के लिए लोग नहीं भागेंगे..." कम नौकरियों के लिए इतने ज़्यादा आवेदन आने का एक कारण यह भी है कि तेलंगाना में सबसे ज़्यादा इंजीनियरिंग कॉलेज तथा उच्च शिक्षा के लिए प्रावधान मौजूद हैं...

चक्रपाणि ने बताया, "सरकार ने फीस वापसी की योजना शुरू की थी, सो, पिछले15 साल में राज्य ने बड़ी संख्या में इंजीनियर तैयार किए हैं, लगभग 1.5 लाख प्रतिवर्ष... उन्हें प्राइवेट सेक्टर में नौकरी नहीं मिल पाती है, तो वह भी सरकारी नौकरी के लिए कोशिश करने लगते हैं..."

टिप्पणियां

​यह भी पढ़ें : गुजरात : क्लर्क की परीक्षा में सवाल,  हार्दिक पटेल को किस नेता ने पानी पिलाने की पेशकश की थी 

VIDEO: तेलंगाना में 700 पदों के लिए आए लाखों आवेदन...



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement