NDTV Khabar

कांग्रेस और जेडीएस के बीच लोकसभा चुनावों के लिए सीटों के बंटवारे में न हो 'तीसरे दर्जे' जैसा व्यवहार : कुमारस्वामी

गठबंधन सहयोगियों के बीच सीटों के बंटवारे को लेकर होने वाली बातचीत से पहले कांग्रेस में अंदरुनी दबाव है कि वह जनता दल सेक्यूलर (जेडीएस) के सामने ज्यादा ना झुके.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
कांग्रेस और जेडीएस के बीच लोकसभा चुनावों के लिए सीटों के बंटवारे में न हो 'तीसरे दर्जे' जैसा व्यवहार : कुमारस्वामी
नई दिल्ली:

सूत्रों के हवाले से ख़बर है कि कर्नाटक में एक बार फिर सरकार गिराने की कोशिश चल रही है. बताया जा रहा है कि बीजेपी के कुछ नेता इस काम में लगे हुए हैं. ख़बर है कि कांग्रेस के चार विधायकों को मुंबई के एक रिसॉर्ट में रखा गया है. वहीं कांग्रेस का कहना है कि सभी चारों विधायक हमारे संपर्क में बने हुए हैं. डिप्टी सीएम जी परमेश्वर का कहना है कि हमारी सरकार स्थिर है, कोई ख़तरा नहीं है. सूत्र ये भी बता रहे हैं कि ये कोशिश पूर्व मुख्यमंत्री येदियुप्पा के खेमे से चल रही है, जबकि बीजेपी का शीर्ष नेतृत्व आम चुनाव से पहले इससे बचना चाहता है. इन खबरों के बीच कर्नाटक के मुख्यमंत्री और जेडीएस के नेता कुमारस्वामी का बयान कांग्रेस को परेशान कर सकता है. उन्होंने कहा है कि कर्नाटक में सत्तारूढ़ गठबंधन सहयोगियों कांग्रेस और जेडीएस के बीच लोकसभा चुनावों के लिए सीटों के बंटवारे में उनकी पार्टी के साथ 'तीसरे दर्जे के नागरिकों' जैसा व्यवहार ना किया जाए और बीजेपी के खिलाफ एकजुट होकर लड़ने के लिए दोनों साझेदारों को 'लेन-देन की नीति' अपनानी होगी.

डीके शिवकुमार का आरोप, कर्नाटक सरकार गिराने के लिए बीजेपी कर रही है 'ऑपरेशन लोटस' पर काम


गठबंधन सहयोगियों के बीच सीटों के बंटवारे को लेकर होने वाली बातचीत से पहले कांग्रेस में अंदरुनी दबाव है कि वह जनता दल सेक्यूलर (जेडीएस) के सामने ज्यादा ना झुके वहीं, कुमारस्वामी का कहना है कि दोनों पक्षों में किसी को भी संकीर्णता नहीं दिखानी चाहिए. मुख्यमंत्री ने कहा कि सत्ता विरोधी लहर के साथ-साथ प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का 'करिश्मा' घट रहा है. प्रधानमंत्री पद के लिए कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी का नाम सुझाते हुए कुमारस्वामी ने कहा कि भाजपा-विरोधी दलों में हालांकि गांधी के नाम को लेकर अभी तक सहमति नहीं है.    कर्नाटक में अपनी सरकार के सात महीने पूरे होने पर जेडीएस नेता ने सरकार के भीतर मतभेद के आरोपों को नकारते हुए कहा कि वह इस ‘कड़वाहट' से आसानी से पार पा लेंगे.

कर्नाटक : डीके शिवकुमार का खुला पत्र, जोड़तोड़ को लेकर कांग्रेस-बीजेपी फिर आमने-सामने

टिप्पणियां

सीट बंटवारे पर बातचीत असफल रहने पर क्या जेडीएस अकेले दम पर लोकसभा चुनाव लड़ेगी, यह पूछने पर मुख्यमंत्री ने कहा, 'हमारी समझ से हम दोनों (कांग्रेस और जेडीएस) को (लोकसभा चुनाव) साथ लड़ना चाहिए क्योंकि (कर्नाटक में) सरकार बनाने का कारण भाजपा को सत्ता में आने से रोकना और देश में माहौल को बेहतर बनाना था.'    उन्होंने कहा कि दक्षिण भारतीय राज्य में गठबंधन सरकार के गठन के बाद से देश के राजनीतिक परिदृश्य में बहुत बदलाव आए हैं. कुमारस्वामी ने कहा, '.....मेरे विचार में यदि कांग्रेस राह भटक जाती है और अति-विश्वास के साथ आगे बढ़ती है तो क्या होगा, उन्हें पता है, अपने अतीत के अनुभवों के माध्यम से वह सब कुछ जानते हैं. मुझे नहीं लगता है कि वह इसे भूलेंगे.'

लोकसभा चुनाव से पहले जेडीएस की मांग, आधी सीटें मिलनी चाहिए​



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement