NDTV Khabar

बड़े नेताओं के ‘इन बयानों’ की वजह से हमेशा चर्चा में रहेगा कर्नाटक विधानसभा चुनाव

चुनाव प्रचार में दोनों पार्टियों के नेताओं ने एक दूसरे पर आरोप-प्रत्यारोप करने का एक भी मौका हाथ से नहीं जाने दिया.

89 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
बड़े नेताओं के ‘इन बयानों’ की वजह से हमेशा चर्चा में रहेगा कर्नाटक विधानसभा चुनाव

पीएम मोदी (फाइल फोटो)

खास बातें

  1. कर्नाटक विधानसभा चुनाव के लिए मतों की गिनती आज होगी
  2. चुनाव प्रचार में दोनों पार्टियों ने अपनी पूरी ताकत झोंक दी थी
  3. कर्नाटक विधानसभा चुनाव प्रचार में जमकर बयानबाजियां हुईं
नई दिल्ली: कर्नाटक विधानसभा चुनाव के लिए मतों की गिनती आज होगी. कर्नाटक में बीजेपी और कांग्रेस ने अपनी पार्टियों को जीत दिलाने के लिए चुनाव प्रचार में अपनी पूरी ताकत झोंक दी. चुनाव प्रचार में दोनों पार्टियों ने एक दूसरे पर आरोप-प्रत्यारोप करने का एक भी मौका हाथ से नहीं जाने दिया. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी समेत भाजपा एवं कांग्रेस के शीर्ष नेताओं ने वोटर्स को लुभाने की कोशिश में एक दूसरे पर जमकर निशाना साधा. राज्य में चुनावी फायदा बटोरने के लिये भ्रष्टाचार से लेकर संप्रदायवाद, मुख्यमंत्री सिद्धरमैया की 70 लाख रुपये की हबलॉट की घड़ी से लेकर सोनिया गांधी के विदेशी मूल का मुद्दा तक उठा. इतना ही नहीं बीजेपी के मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार बीएस येदियुरप्पा ने कर्नाटक के बेलगावी में एक चुनावी रैली को संबोधित करते हुए कहा, ''अब आराम से मत बैठो. अगर आपको लगता है कि कोई वोटिंग नहीं कर रहा है, तो उसके घर जाओ और उसको हाथ-पैर बांधकर बीजेपी के प्रत्याशी के पक्ष में वोट डालने के लिए लेकर आओ.'' इस चुनाव प्रचार में ऐसे ही कई बयानबाजियां दोनों तरफ के नेताओं द्वारा की गईं.

कर्नाटक चुनाव में हुई बयानबाजियों पर एक नजर...

-प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कर्नाटक के दावणगेरे में एक रैली को संबोधित करते हुए कर्नाटक सरकार को सिद्धारमैया नहीं, सीधा रुपैया की सरकार कहा था. पीएम मोदी के इस बयान पर सीएम सिद्धारमैया ने कानूनी नोटिस भी जारी किया.

-कांग्रेस ने एक पोस्टर जारी किया था, जिसपर पीएम मोदी की तस्वीर के साथ बीजेपी का चुनाव चिन्ह था जिसपर लिखा था हैप्पी जुमला दिवस. इसके साथ ही इसपर ‘बहुत हुआ भ्रष्टाचार, लेकिन नीरव मोदी है अपना यार’ का भी नारा लिखा था.

-कर्नाटक के कोप्पल में पीएम मोदी ने राहुल गांधी पर जमकर निशाना साधते हुए कहा था कि सोने का चम्मच लेकर पैदा हुए नामदार को गरीब मां की तकलीफ का कैसे पता चलेगा. हम गरीब लोग हैं और गरीबों के लिए जीवन खपाने वाले लोग हैं. 

-अपनी मां सोनिया गांधी पर पीएम मोदी के हमले का राहुल गांधी ने करारा जवाब देते हुए कहा कि मैं जितने भी भारतीय लोगों से मिला हूं, उन सबसे अधिक भारतीय मेरी मां हैं. अगर पीएम मोदी को उन्हें कोसना पसंद है, तो अपनी खुशी के लिए वह ऐसा कर सकते हैं.

-सिद्धारमैया ने एनडीटीवी को दिए एक विशेष साक्षात्कार में कहा था कि कर्नाटक में पीएम मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह बिल्कुल भी लोकप्रिय नहीं हैं. इतना ही नहीं उन्होंने यह भी कहा था कि भाजपा अध्यक्ष जब रैली को संबोधित करते हैं तो वह ‘कॉमेडी’ शो  जैसा लगता है.

-गडग में आयोजित रैली में भी पीएम मोदी  ने अपने चिरपरिचित अंदाज में कांग्रेस के लिए नये शब्दों को खोज की. उन्होंने कांग्रेस पर हमला बोलते हुए कहा कि चुनाव नतीजों के बाद भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस घटकर पीपीपी कांग्रेस यानी 'पंजाब , पुडुचेरी और परिवार कांग्रेस' रह जाएगी. उन्होंने भविष्यवाणी की कि राज्य की सत्तारुढ़ पार्टी इस चुनाव में मटियामेट हो जाएगी.

-राहुल गांधी से बेंगलुरु में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में जब 2019 में राहुल गांधी से प्रधानमंत्री पद के लिए सवाल पूछा गया, कि क्या वह प्रधानमंत्री बनेंगे. तो उन्होंने कहा, 'अगर कांग्रेस पार्टी सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरती है, तो क्यों नहीं. उन्होंने कहा कि अगर 2019 में कांग्रेस सबसे बड़ी पार्टी बनती है तो वह पीएम बन सकते हैं. कर्नाटक चुनाव में अब तक का उनका सबसे अधिक वायरल बयान यही है.

-कर्नाटक में चुनाव प्रचार के लिए उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भी रैली की, कांग्रेस के प्रवक्ता रणदीप ने सीएम योगी पर वार करते हुए कहा कि ‘उत्तर प्रदेश की जनता चाहे त्रस्त, मैं हूं कर्नाटक चुनाव में जुमले गड़ने में व्यस्त.’

-पीएम मोदी ने एक रैली के दौरान कहा था कि जिन लोगों को देशभक्ति के नाम से परेशानी होती है जो देशभक्ति की चर्चा के खिलाफ हैं. मैं उन सभी से कहना चाहता हूं कि अगर आप दूसरों से सीखना नहीं चाहते हैं तो कृप्या न सीखें, इसमें चाहे आपके पूर्वज हो या महात्मा गांधी की कांग्रेस. उन्होंने आगे कहा था कि कम से कम बगलकोट के मुधोल कुत्तों से सीखने का प्रयास करें.  

-कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी का यह बयान भी कर्नाटक चुनाव में काफी लोकप्रिय रहा. राहुल गांधी ने पीएम मोदी पर हमला करते हुए कहा कि अब पीएम मोदी का नारा बदल गया है, अब नया नारा है 'बेटी बचाओ बीजेपी के एमएलए से'. कर्नाटक के कलगी में एक रैली को संबोधित करते हुए राहुल ने कहा कि पीएम मोदी ने कठुआ कांड पर एक भी शब्द नहीं बोला.

-पीएम ने राहुल गांधी को निशाने पर लेते हुए कहा था कि उनका अहंकार सातवें आसमान पर पहुंच गया है. यह तो जीवन की शुरुआत ही है. अगर वह अभी से ऐसा कर रहे हैं तो आने वाले दिन कितने बुरे होंगे यह आपको उनकी हरकतों से पता चल जाएगा.' प्रधानमंत्री ने कहा कि ऐसे अहंकारी नेताओं के साथ कांग्रेस पार्टी लोकतंत्र के लिए एक 'बड़ा खतरा' है. राजनीति में मतभेद हो सकते हैं किंतु सार्वजनिक जीवन में मर्यादा होती है.

टिप्पणियां
-पीएम ने संसद में 15 मिनट बोलने की राहुल की चुनौती का भी जवाब दिया. पीएम मोदी ने कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष ने मुझे चुनौती दी थी कि अगर मैं संसद में 15 मिनट बोलूंगा तो मोदी जी बैठ भी नहीं पाएंगे. उन्‍होंने कहा कि वे 15 मिनट बोलेंगे ये भी एक बड़ी बात है. पीएम ने राहुल गांधी को चैलेंज करते हुए कहा कि अगली बार जब 15 मिनट बोले तो करीब 5 बार श्रीमान विश्वसरैया का नाम भी ले लेना.

-राहुल गांधी ने चुनाव प्रचार के दौरान कहा था कि पीएम मोदी और बीजेपी ने गब्बर सिंह की पूरी टीम कर्नाटक चुनाव में झोकी दी है. रेड्डी ब्रदर्स भी अब चुनाव में उतर गये हैं. राहुल ने कहा कि मोदी जी कर्नाटक में आते हैं तो उनके पास कुछ बोलने को नहीं होता .इसलिए वह सिर्फ मेरे ऊपर हमले बोलते हैं और मेरे बारे में बोलते रहते हैं.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement