NDTV Khabar

कर्नाटक के तुमाकुरु में सिद्दगंगा पीठ के प्रमुख 111 वर्षीय शिवकुमार स्वामी का निधन

शिवकुमार स्वामी (Shivakumara Swami) का निधन 111 वर्ष की उम्र में निधन हो गया. कर्नाटक के मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी ने इसकी घोषणा की.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
नई दिल्ली:

कर्नाटक के तुमाकुरु में सिद्दगंगा पीठ के प्रमुख 111 वर्षीय शिवकुमार स्वामी का निधन (Shivakumara Swamij Death) हो गया है. मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी ने सोमवार को इसकी घोषणा की. कुमारस्वामी ने तुमाकुरु में मीडिया से कहा, "परम आदरणीय, स्वामीजी का फेफड़े के संक्रमण के इलाज के दौरान मठ में पूर्वाह्न् 11.44 बजे निधन हो गया."स्वामी को उम्र संबंधी बीमारियों की वजह से हाल में कई बार अस्पताल में भर्ती होना पड़ा था. इससे पहले कर्नाटक के मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी उनको भारत रत्न देने की मांग की थी. बीती 19 जनवरी को सीएम कुमारस्वामी ने कहा कि केंद्र सरकार को तुमाकुरु सिद्दगंगा मठ के प्रमुख 111 वर्षीय शिवकुमार स्वामी को भारत रत्न से सम्मानित करना चाहिए. कुमारस्वामी ने यहां मीडिया से कहा, 'मैंने 2006 में स्वामी को उनके अच्छे काम के लिए भारत रत्न देने की सिफारिश की थी. यदि जरूरी हुआ तो हम इस सिलसिले में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मिलेंगे." आपको बता दें कि उम्र संबंधी बीमारियों के चलते स्वामी का इलाज बेंगलुरु के उत्तर-पश्चिम से लगभग 70 किलोमीटर दूर तुमाकुरु के सिद्दगंगा मठ में किया जा रहा था.  

कर्नाटक में संतों ने कहा, लिंगायत विधायक कांग्रेस पार्टी छोड़े, ये है वजह


अनुयायियों के बीच 12वीं शताब्दी के समाज सुधारक बसावा के अवतार के रूप में लोकप्रिय शिवकुमार स्वामी सिद्दगंगा एजुकेशन सोसाइटी के प्रमुख भी थे. जो राज्य में लगभग 125 शैक्षणिक संस्थानों, इंजीनियरिंग कॉलेजों से लेकर बिजनेस स्कूलों तक का संचालन करता है.

कर्नाटक चुनाव : मठ और जाति हैं हावी

कुमारस्वामी ने कहा कि उन्होंने 13 साल पहले सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार के लिए स्वामी के नाम की सिफारिश केंद्र सरकार से की थी. उस समय वह जनता दल-सेक्युलर (जेडी-एस)-भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) गठबंधन की सरकार में मुख्यमंत्री थे. वहीं भाजपा की प्रदेश इकाई के अध्यक्ष बीएस येदियुरप्पा ने भी कहा कि पार्टी प्रधानमंत्री से अनुरोध करेगी कि वह शिवकुमार स्वामी को यह सम्मान प्रदान करें. 

 

पीएम मोदी ने दी श्रद्धांजलि

 

टिप्पणियां

 

लिंगायत के शरण में पहुंची थीं सोनिया गांधी



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement