दो महीने बाद केरल में खुले मॉल, रेस्त्रां और प्रार्थना स्थल

कोरोना वायरस महामारी को रोकने के लिए लागू बंद की वजह से करीब दो महीने बाद मंगलवार को केरल में मॉल, रेस्त्रां और प्रार्थना स्थलों को खोल दिया गया.

दो महीने बाद केरल में खुले मॉल, रेस्त्रां और प्रार्थना स्थल

करीब दो महीने बाद मंगलवार को केरल में मॉल, रेस्त्रां और प्रार्थना स्थलों को खोल दिया गया.

खास बातें

  • मंगलवार को केरल में मॉल, रेस्त्रां और प्रार्थना स्थलों को खोल दिया गया
  • कोरोना वायरस महामारी को रोकने के लिए दो महीने रहे थे बंद
  • दिन की शुरुआत में मॉल और रेस्त्रां में कम ही लोग नजर आए
तिरुवनंतपुरम:

कोरोनावायरस महामारी को रोकने के लिए लागू बंद की वजह से करीब दो महीने बाद मंगलवार को केरल में मॉल, रेस्त्रां और प्रार्थना स्थलों को खोल दिया गया. हालांकि दिन की शुरुआत में मॉल और रेस्त्रां में कम ही लोग नजर आए और लोग भोजनालयों से खाना ले जाना ही बेहतर समझ रहे हैं. गुरुवायूर स्थित प्रसिद्ध भगवान कृष्ण मंदिर के साथ ही कई अन्य मंदिर भी खुले. वहीं, राज्य में कई स्थानों पर कुछ चर्च और मस्जिदें भी खुली हैं. गुरुवायूर मंदिर सुबह नौ बजकर 30 मिनट पर खुला और करीब 150 लोगों ने यहां पूजा-अर्चना की. इन श्रद्धालुओं ने ऑनलाइन बुकिंग की थी. मास्क पहने श्रद्धालु सामाजिक दूरी के नियम का पालन करते हुए कतार में खड़े दिखे.

गुरुवायूर मंदिर में एक श्रद्धालु ने बताया कि उन्होंने रविवार को दर्शन के लिए बुकिंग की थी और लंबे समय के बाद वह पूजा-अर्चना करके खुश हैं. उन्होंने कहा कि यह सपने के पूरा होने जैसा है. वहीं, राज्य का प्रसिद्ध पद्मनाभ स्वामी मंदिर, पझवननगड़ी गणपति और अटुकल भगवती मंदिर बंद रहे. वहीं श्रीकंटेश्वरशिव मंदिर और भगवान हनुमान मंदिर श्रद्धालुओं के लिए खोले गए हैं. मंदिर प्रशासन श्रद्धालुओं को मंदिर में प्रवेश देने से पहले उनके नाम, उम्र और अन्य जानकारियां भी दर्ज कर रहा है.

त्रावणकोर देवस्वओम बोर्ड (टीडीबी) ने बताया कि सबरीमला के प्रसिद्ध भगवान अयप्पा मंदिर में पूजा के लिए बुकिंग बुधवार से शुरू होगी और दूसरे राज्यों से आने वाले श्रद्धालुओं को कोविड-19 निगेटिव सर्टिफिकेट देना होगा. सूत्रों ने बताया कि अयप्पा मंदिर 14 जून से 28 जून तक पांच दिन की मासिक पूजा और मंदिर उत्सव के लिए खुलेगा और एक समय में मंदिर के भीतर सिर्फ 10 लोगों को प्रवेश की अनुमति होगी.

भाजपा और हिंदू ऐक्य वेदी ने मंदिरों को ‘जल्दबाजी में' खोलने को लेकर राज्य सरकार की आलोचना की है. इस पर राज्य सरकार ने कहा कि मंदिरों को खोलने का फैसला केंद्र सरकार के अनलॉक के पहले चरण के निर्णय के अनुरूप लिया गया है. राज्य सरकार का कहना है कि जो अभी इसका विरोध कर रहे हैं, वह पहले चाहते थे कि श्रद्धालु मंदिरों में आएं. राज्य में कोच्चि और कोझिकोड में चर्च खुले और इसे संक्रमण मुक्त करने के बाद प्रार्थना के लिए लोगों को अंदर भेजा गया. वहीं, कुछ स्थानों पर मस्जिद भी खुले.



(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com