इस वजह से एम. के. स्टालिन का सीधे DMK का राजा बनना तय

वर्षों तक भावी युवराज ही बने रहे एम. के. स्टालिन का आखिरकार द्रमुक का राजा बनना तय हो गया है.

इस वजह से एम. के. स्टालिन का सीधे DMK का राजा बनना तय

एम. के. स्टालिन का मंगलवार को द्रमुक पद चयन होना लगभग तय है.

खास बातें

  • एम. के. स्टालिन का सीधे DMK का राजा बनना तय
  • उनके विरोध में कोई नामांकन नहीं हुआ है
  • अध्यक्ष पद के लिए नामांकन करने वाले वह एकमात्र उम्मीदवार हैं
चेन्नई:

वर्षो तक भावी युवराज ही बने रहे एम. के. स्टालिन का आखिरकार द्रमुक का राजा बनना तय हो गया है. दिवंगत द्रमुक नेता एम. करुणानिधि के पुत्र और उनके वास्तविक राजनीतिक वारिस एम. के. स्टालिन का मंगलवार को द्रमुक पद चयन होना लगभग तय है. पार्टी मुख्यालय में द्रमुक की जनरल काउंसिल की बैठक में मंगलवार को औपचारिक तौर पर उनके राजतिलक की औपचारिक घोषणा हो सकती है. द्रमुक के दूसरे अध्यक्ष के रूप में स्टालिन का चुनाव निर्बाध तरीके से होने की संभावना है क्योंकि पार्टी के 65 जिलों के सचिवों ने पार्टी के शीर्ष पद के लिए उनका नाम प्रस्तावित किया है और उनके विरोध में कोई नामांकन नहीं हुआ है. पार्टी अध्यक्ष पद के लिए नामांकन करने वाले वह एकमात्र उम्मीदवार हैं. 

यह भी पढ़ें: कलाईनार के बाद कौन? तमिलनाडु की राजनीति में बदलाव का दौर

उनके दिवंगत पिता और प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री करणानिधि के बीमार रहने के कारण अधिकांश समय घर में ही बिताने पर स्टालिन को जनवरी 2017 में पार्टी का कार्यकारी अध्यक्ष बनाया गया था. करुणानिधि के इसी महीने निधन हो जाने के बाद उनको पार्टी अध्यक्ष के रूप में प्रोन्नत करना अनिवार्य हो गया था. करुणानिधि के 65 वर्षीय पुत्र के पास पार्टी के कोषाध्यक्ष का पद भी होगा. वरिष्ठ नेता दुरई मुरुगन का उनकी जगह चुना जाना भी तय है क्योंकि उस पद के लिए कोई अन्य उम्मीदवार नहीं है. 

VIDEO: करुणानिधि की मौत के बाद डीएमके में छिड़ी वर्चस्व की लड़ाई
स्टालिन के बड़े भाई एम. के. अलागिरि जिनको उनके नेतृत्व का विरोध करने को लेकर करुणानिधि ने पार्टी विरोधी कार्य में लिप्त रहने के लिए पार्टी से निष्कासित कर दिया था वह उपचुनाव में द्रमुक विरोधी कार्य कर सकते हैं.

 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com