NDTV Khabar

कर्नाटक : मंगलुरु रैली के दौरान कई भाजपा नेता हिरासत में

ज्योति सर्किल के पास हजारों कार्यकर्ताओं को एक साथ पार्टी का झंडा हाथ में लेकर सरकार के खिलाफ नारा बुलंद करते हुए देखा गया.

9 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
कर्नाटक : मंगलुरु रैली के दौरान कई भाजपा नेता हिरासत में

(प्रतीकात्मक तस्वीर)

खास बातें

  1. कांग्रेस सरकार के कार्यकाल में राज्य में कानून व्यवस्था चरमरा गई है.
  2. पार्टी ने पहले 'मंगलुरु चलो बाइक रैली' की योजना बनाई थी
  3. लेकिन पुलिस ने इसकी इजाजत नहीं दी.
मंगलुरु: मंगलवार को मंगलुरु में पुलिस ने विना इजाजत जनसभा करने वाले कई भाजपा नेताओं को हिरासत में ले लिया. कर्नाटक के मंगलुरु में गुरुवार को पुलिस ने भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के कुछ पदाधिकारियों की हत्या के विरोध में प्रदर्शन करने वाले कई भाजपा नेताओं को हिरासत में ले लिया. पुलिस ने इन्हें यहां जनसभा करने की इजाजत नहीं दी थी. पुलिस ने भाजपा की कर्नाटक इकाई के अध्यक्ष बी. एस. येदयुरप्पा समेत पार्टी के वरिष्ठ नेताओं व कार्यकर्ताओं को पार्टी पदाधिकारियों की कथित हत्याओं के विरोध में जनसभा के लिए नेहरू मैदान जाने के दौरान हिरासत में लिया.

ज्योति सर्किल के पास हजारों कार्यकर्ताओं को एक साथ पार्टी का झंडा हाथ में लेकर सरकार के खिलाफ नारा बुलंद करते हुए देखा गया.

यह भी पढे़ं : गौरी लंकेश हत्या: CCTV से मिल सकते हैं अहम सुराग, कर्नाटक सरकार ने SIT गठित की- 10 अहम बातें

इस मौके पर पार्टी के वरिष्ठ नेता एवं पूर्व मुख्यमंत्री जगदीश शेट्टार और पार्टी के महासचिव सी.टी रवि भी मौजूद थे. येदयुरप्पा ने कहा, 'कांग्रेस सरकार के कार्यकाल में राज्य में कानून व्यवस्था चरमरा गई है. राज्य में भाजपा के कई पदाधिकारी मारे गए हैं. कांग्रेस सरकार के कार्यकाल में और कितने पार्टी पदाधिकारी मारे जाएंगे?' पार्टी ने पहले 'मंगलुरु चलो बाइक रैली' की योजना बनाई थी लेकिन पुलिस ने इसकी इजाजत नहीं दी. 

पुलिस उपायुक्त हनुमंथाराया ने आईएएनएस को बताया, 'पार्टी को रैली करने की इजाजत नहीं दी गयी थी क्योंकि इस वजह से यातायात और कानून व्यवस्था की स्थिति बिगड़ सकती थी. जनसभा से क्षेत्र में सांप्रदायिक तनाव फैल सकता था.' पुलिस की ओर से रैली को रोकने के लिए लगाए गए बैरिकेड को भाजपा कार्यकर्ताओं की ओर से पार करने की कोशिश के दौरान पुलिस और कार्यकर्ताओं के बीच झड़प भी हुई.

भाजपा के प्रवक्ता शांताराम ने आईएएनएस से कहा,"राज्य में राष्ट्रीय स्वंयसेवक संघ (आरएसएस) के पदाधिकारियों की हत्या के विरोध में हम जनसभा आयोजित करना चाहते थे. हम राष्ट्रीय जांच एजेंसी से इन हत्याओं की जांच की मांग करते हैं.' 

VIDEOS : राजकीय सम्मान के साथ पत्रकार गौरी लंकेश को दी गई अंतिम विदाई​
उन्होंने कहा कि पार्टी पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया और कर्नाटक फोरम फॉर डिगनिटी पर प्रतिबंध लगाने की मांग करती है क्योंकि भाजपा पदाधिकारियों पर हमले में इन्हीं का हाथ है.(इनपुट आईएएनएस से)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement