सोना तस्करी केस के खिलाफ भूख हड़ताल बैठे केंद्रीय मंत्री, केरल सीएम के इस्तीफे की मांग

तिरुवनंतपुरम में यूएई के वाणिज्य दूतावास में राजनयिक चैनलों के माध्यम से 30 किलोग्राम सोने की तस्करी की जांच के सिलसिले में केरल के एक वरिष्ठ आईएएस अधिकारी को कस्टम अधिकारियों के सामने ही 14 जुलाई को पद से हटा दिया गया था. 

सोना तस्करी केस के खिलाफ भूख हड़ताल बैठे केंद्रीय मंत्री, केरल सीएम के इस्तीफे की मांग

केंद्रीय विदेश राज्य मंत्री वी मुरलीधरन केरल के सीएम के इस्तीफे पर अड़े (फोटो-एएनआई)

नई दिल्ली:

केरल में सोने की तस्करी के मामले में मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन (CM Pinarayi Vijayan) के खिलाफ आज केंद्रीय वी मुरलीधरन एक दिन की भूख हड़ताल पर बैठ गए. केंद्रीय विदेश राज्य मंत्री और संसदीय कार्य राज्य मंत्री मुरलीधरन इस मामले को लेकर राज्य के सीएम के इस्तीफे पर अड़े हैं. बीजेपी का मानना है कि इस मामले के तार आतंकवादी संगठनों के वित्तपोषण से जुड़े हैं. पार्टी ने इसकी गहन जांच की मांग की है.

भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव मुरलीधर राव ने भी इस मुद्दे पर केंद्रीय मंत्री का साथ दिया. उन्होंने कहा, "यह न केवल सोने की तस्करी का मामला है, बल्कि यह भारत की सुरक्षा से जुड़ा है. यह आतंकवादी संगठनों के वित्तपोषण नेटवर्क से भी संबंधित है. इसकी गहन जांच होनी चाहिए. केरल के सीएम को इस्तीफा देना होगा यह हमारी मांग है." 

आपको बता दें कि तिरुवनंतपुरम में यूएई के वाणिज्य दूतावास में राजनयिक चैनलों के माध्यम से 30 किलोग्राम सोने की तस्करी की जांच के सिलसिले में केरल के एक वरिष्ठ आईएएस अधिकारी को कस्टम अधिकारियों के सामने ही 14 जुलाई को पद से हटा दिया गया था.

यह भी पढ़ें- केरल: गोल्‍ड स्‍मगलिंग मामले में स्‍वप्‍ना सुरेश ने खुद को बताया निर्दोष, अग्रिम जमानत के लिए आवेदन किया

 विपक्ष द्वारा यह आरोप लगाया जा रहा था कि आईएएस अधिकारी एम शिवाशंकर के सोना तस्करी मामले के आरोपियों से संबंध हैं.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

यह भी पढ़ें- सोना तस्करी मामले में IAS अधिकारी को पद से हटाया गया, कॉल रेकॉर्ड में आरोपी से बातचीत का खुलासा

अज्ञात स्रोतों द्वारा मीडिया को लीक किए गए कॉल रिकॉर्ड के मुताबिक इस मामले में एक आरोपी सारिथ ने अधिकारी शिवशंकर को कई बार फोन किए. इस मामले इससे पहले मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन के प्रधान सचिव के पद से हटाए गए IAS अधिकारी को भी विपक्ष के एक अन्य प्रमुख आरोपी स्वप्न सुरेश से जोड़ा गया था. सारिथ और स्वप्न दोनों ही पहले यूएई वाणिज्य दूतावास के कर्मचारी थे.