क्या केरल के मुख्यमंत्री विजयन राजनैतिक हिंसा के लिए नैतिक जिम्मेदारी लेंगे : अमित शाह

अमित शाह ने आरोप लगाया कि केरल में पिछले साल मई में मौजूदा सरकार के सत्ता में आने के बाद भाजपा और आरएसएस के 13 कार्यकर्ता मारे गए हैं.

क्या केरल के मुख्यमंत्री विजयन राजनैतिक हिंसा के लिए नैतिक जिम्मेदारी लेंगे : अमित शाह

भाजपा अध्यक्ष अमित शाह (फाइल फोटो)

तिरुवनंतपुरम:

भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने केरल में राजनैतिक हिंसा के लिए माकपा नीत एलडीएफ सरकार पर जमकर निशाने साधे. अमित शाह ने मुख्यमंत्री पी. विजयन से पूछा कि क्या वह भाजपा-आरएसएस के 13 निर्दोष कार्यकर्ताओं की हत्या की नैतिक जिम्मेदारी लेने के लिए तैयार हैं. राज्य में पार्टी की 15-दिवसीय 'जन रक्षा' यात्रा के समापन पर पुतरीकांदम मैदान में पार्टी कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए उन्होंने आरोप लगाया कि पिछले साल मई में मौजूदा सरकार के सत्ता में आने के बाद 13 कार्यकर्ता मारे गए हैं. उन्होंने कहा, 'मैं केरल के मुख्यमंत्री से पूछ रहा हूं कि क्या वह एलडीएफ सरकार के सत्ता में आने के बाद से राज्य में 13 भाजपा/आरएसएस कार्यकर्ताओं की हत्या की नैतिक जिम्मेदारी लेने को तैयार हैं.'

यह भी पढ़ें : भाजपा, आरएसएस को माकूल जवाब दे सकती है माकपा : सीताराम येचुरी

उन्होंने कहा, 'सीएम साहब, अगर आप लड़ना चाहते हैं तो विकास और विचारधारा के मामले में हमसे लड़ें.' शाह ने कहा कि अगर मार्क्सवादी पार्टी स्वतंत्रता के 70 वर्षों बाद भी महसूस करती है कि भाजपा/आरएसएस कार्यकर्ताओं का हिंसा के जरिये सफाया किया जा सकता है तो ये उनकी भूल है. उन्होंने कहा, 'मैं माकपा से कहना चाहूंगा कि यह संभव नहीं है.' उन्होंने विजयन से यह भी पूछा कि क्या लोगों ने उन्हें राज्य में भाजपा/आरएसएस कार्यकर्ताओं का सफाया करने के लिए जनादेश दिया था.

यह भी पढ़ें : केरल में जिहादी आतंक का माहौल यहां की सरकार ने बनाया है : योगी आदित्यनाथ

Newsbeep

इससे पहले, अमित शाह ने पार्टी कार्यकर्ताओं के साथ पलायम में मार्टर्स कॉलम से पुतरीकांदम मैदान तक तकरीबन दो किलोमीटर पदयात्रा की. यह मैदान प्रसिद्ध पद्मनाभस्वामी मंदिर के निकट है. उन्होंने जनसभा को संबोधित करने से पहले राज्य में राजनैतिक हिंसा में जान गंवाने वाले पार्टी कार्यकर्ताओं को श्रद्धांजलि भी दी.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


VIDEO : केरल में इतनी राजनीतिक हिंसा क्यों?
अमित शाह ने 3 अक्टूबर को कन्नूर में पयान्नूर से यात्रा को हरी झंडी दिखाई दी थी. कन्नूर राज्य का उत्तरी जिला है जहां माकपा और भाजपा-आरएसएस कार्यकर्ताओं के बीच संघर्ष का इतिहास रहा है. (इनपुट भाषा से)