रोमांचक मुकाबले में एक रन से जीता भारत

खास बातें

  • मुनाफ पटेल की शानदार गेंदबाजी की बदौलत भारत ने बेहद रोमांचक मुकाबले में दक्षिण अफ्रीका को 1 रन से हराकर वनडे सीरीज में 1-1 से बराबरी कर ली।
जोहानसबर्ग:

आखिरी क्षणों में एक ओवर में दो विकेट लेने वाले मुनाफ पटेल की शानदार गेंदबाजी की बदौलत भारत ने बेहद रोमांचक मुकाबले में दक्षिण अफ्रीका को 1 रन से हराकर पांच मैचों की वनडे सीरीज में 1-1 से बराबरी कर ली। जीत के करीब पहुंचकर चूकी दक्षिण अफ्रीकी टीम ने एक बार फिर साबित कर दिया कि वह आखिरी क्षणों में दबाव के आगे घुटने टेकने वाले चोकर्स के नाम से क्यों बदनाम है। जीत के लिए 191 रन के आसान लक्ष्य का पीछा करते हुए पूरी टीम 43 ओवर में 189 रन पर सिमट गई। मैन ऑफ द मैच रहे मुनाफ ने आठ ओवर में 29 रन देकर चार विकेट लिए, जबकि जहीर खान को दो विकेट मिले। एक समय दक्षिण अफ्रीका की जीत लगभग तय लग रही थी, लेकिन मुनाफ ने 43वें ओवर में मोर्ने मोर्कल और वेन परनेल को पैवेलियन भेजकर भारत को अप्रत्याशित जीत दिला दी। मोर्कल ने 43वें ओवर की दूसरी गेंद पर प्वाइंट में यूसुफ पठान को कैच थमाया, जबकि टीम को जीत की ओर ले जाते दिख रहे परनेल ने इसी ओवर की आखिरी गेंद पर युवराज सिंह को कैच दे दिया। इससे पहले तेज गेंदबाज लोंवाबो सोटसोबे के चार विकेट की बदौलत दक्षिण अफ्रीका ने भारत को 190 रन पर समेट दिया। सोटसोबे ने 22 रन देकर चार विकेट लिए, जबकि डेल स्टेन और मोर्ने मोर्कल को दो-दो विकेट मिले। भारत ने 40 रन के भीतर सात विकेट गंवा दिए। भारत के आखिरी चार विकेट 14 रन के भीतर तीसरे पावरप्ले में गिरे। युवराज सिंह (68 गेंद पर 53 रन) और कप्तान महेंद्र सिंह धोनी (61 गेंद पर 38 रन) ने चौथे विकेट के लिए 83 रन जोड़कर भारतीय पारी को संभालने की कोशिश की। एक समय पर भारत का स्कोर तीन विकेट पर 150 रन था, जो नौ विकेट पर 184 रन हो गया। सोटसोबे ने मुरली विजय, युवराज, धोनी और सुरेश रैना के विकेट चटकाए। टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने वाली भारतीय टीम को सचिन तेंदुलकर और विजय ने धीमी शुरुआत दी। विजय उस समय पैवेलियन लौट गए, जब स्कोर बोर्ड पर 21 रन टंगे थे। तेंदुलकर और विराट कोहली ने 42 रन की साझेदारी की, जो कोहली के रन आउट होने से टूट गई। डेविड मिलर ने सीधे थ्रो पर कोहली को पैवेलियन भेजा। सर्वाधिक एक दिवसीय मैच (444) खेलने के श्रीलंका के सनत जयसूर्या के रिकॉर्ड की बराबरी करने वाले तेंदुलकर ने कुछ अच्छे शॉट खेले, लेकिन जोहान बोथा की टर्न लेती गेंद पर आउट हो गए। तीन विकेट 63 रन पर गिरने के बाद युवराज और धोनी ने भारतीय पारी को संभालने की कोशिश की। युवराज ने जेपी डुमिनी को पैडल स्वीप पर चौका जड़ने के साथ हाथ खोलने शुरू किए। सोटसोबे की गेंद पर फाइन लेग में शॉट खेलकर युवराज ने अपना अर्धशतक पूरा किया। वह सोटसोबे की गेंद पर मिड ऑफ में स्टेन को आसान कैच देकर आउट हो गए। इससे पहले विजय ने स्टेन को पहले ओवर की चौथी गेंद पर चौका लगाकर भारत का खाता खोला। उन्होंने अगले ओवर में सोटसोबे को भी चौका लगाया। इसके बाद से हालांकि रनगति गिर गई। पहले पांच ओवर में सिर्फ 12 रन बने।

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com