यह ख़बर 09 मार्च, 2013 को प्रकाशित हुई थी

ऑल इंग्लैंड बैडमिंटन : हार के बाद सायना टूर्नामेंट से बाहर

ऑल इंग्लैंड बैडमिंटन : हार के बाद सायना टूर्नामेंट से बाहर

खास बातें

  • लंदन ओलिम्पिक में कांस्य जीत चुकीं विश्व की तीसरी वरीयता प्राप्त और भारत की अग्रणी महिला बैडमिंटन स्टार सायना नेहवाल शनिवार को ऑल इंग्लैंड बैडमिंटन टूर्नामेंट में महिलाओं के एकल वर्ग के सेमी-फाइनल मुकाबले में हारने के बाद टूर्नामेंट से बाहर हो गई हैं।
बर्मिंघम:

लंदन ओलिम्पिक में कांस्य जीत चुकीं विश्व की तीसरी वरीयता प्राप्त और भारत की अग्रणी महिला बैडमिंटन स्टार सायना नेहवाल शनिवार को ऑल इंग्लैंड बैडमिंटन टूर्नामेंट में महिलाओं के एकल वर्ग के सेमी-फाइनल मुकाबले में हारने के बाद टूर्नामेंट से बाहर हो गई हैं।

इस हार के साथ ही भारत की टूर्नामेंट में जीतने की आखिरी उम्मीद भी समाप्त हो गई। इससे पहले बुधवार को महिला एकल में पीवी सिंधु, पुरुष एकल में सौरव वर्मा और मिश्रित युगल में ज्वाला गुट्टा और वी दीजू की हार से भारत की उम्मीदें पहले ही खत्म हो चुकी थीं।

इस मुकाबले में सायना को थाईलैंड की रातचानोक इंतानोन ने सीधे सेटों में 15-21, 19-21 से पराजित किया। इससे पहले सायना और इंतानोन के बीच छह मुकाबले हो चुके हैं, जिनमें से चार में सायना की जीत हुई थी जबकि एक बार इंतानोन ने बाजी मारी थी।

दोनों खिलाड़ियों ने हालांकि मैच की शुरुआत धीमी की, लेकिन जैसे-जैसे खेल बढ़ता गया इंतानोन ने मैच अपनी मुठ्ठी में कर लिया।

सायना के पास इस टूर्नामेंट को जीतने का सुनहरा मौका था लेकिन इंतानोन ने उनकी उम्मीदों पर पानी फेर दिया। इससे पहले सायना के कोच पुलेला गोपीचंद वर्ष 2001 और प्रकाश पादुकोण वर्ष 1980 में ऑल इंग्लैंड बैडमिंटन का खिताब जीत चुके हैं।

लंदन ओलिम्पिक में कांस्य पदक जीतने वाली सायना इस टूर्नामेंट को जीत कर 17 मार्च को अपने जन्मदिन पर खुद शानदार तोहफा दे सकती थीं, लेकिन वह ऐसा नहीं कर पाईं।

सायना दूसरी बार ऑल इंग्लैंड बैडमिंटन चैंपियनशिप के सेमी-फाइनल में पहुंची थीं। इससे पहले भी वह 2010 में अंतिम-4 दौर तक का सफर तय कर चुकी हैं। वर्ष 2010 में सायना ने क्वार्टर फाइनल में शेंक को हराकर पहली बार सेमी-फाइनल में स्थान पक्का किया था लेकिन अंतिम-4 मुकाबले में वह डेनमार्क की तिने रासमेसुन से हार गई थीं।

इसके बाद सायना 2012 में क्वार्टर फाइनल में हारीं। 2012 में सायना को चीन की ली जुइरेई ने पराजित किया था। जुइरेई ने इस साल ऑल इंग्लैंड चैम्पियनशिप में शीर्ष वरीय खिलाड़ी के तौर पर हिस्सा लिया लेकिन वह पहले ही दौर में हार गईं।

सायना ने तीसरे दौर के मुकाबले में पूर्व चैम्पियन चीन की शिजियांन वांग को 23-21, 19-21, 21-16 से पराजित कर इस टूर्नामेंट के अंतिम चार में प्रवेश किया था। यह मुकाबला एक घंटा 14 मिनट चला था।

दूसरी ओर, लंदन ओलिम्पिक के क्वार्टर फाइनल में जगह बनाकर अपनी चमक दिखाने वाले भारत के अग्रणी पुरुष खिलाड़ी कश्यप को तीसरे दौर में चीन के लोंग चेन के हाथों पराजय का सामना करना पड़ा। कश्यप ने अपने दूसरे दौर के मुकाबले में जापान के सातवें वरीय खिलाड़ी केनिची तागो को हराया था जबकि पहले दौर में चीनी ताइपे के जेन हाओ सू को मात दी थी।

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


विश्व की आठवीं वरीय खिलाड़ी इंतानोन का मुकाबला अब कोरिया की जी ह्यून और डेनमार्क की टाइन बोन के बीच होने वाले मैच में विजेता रहने वाली खिलाड़ी से रविवार को होगा।