NDTV Khabar

एशिया कप हॉकी: आख़िरी मिनट में गुर्जन्त के गोल से बचा भारत, कोरिया के साथ मुकाबला 1-1 से ड्रॉ

ढाका में चल रहे एशिया कप के सुपर-4 में भारत के पहले मैच में चार बार की चैंपियन कोरियाई टीम ने भारत को कड़ी चुनौती दी.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
एशिया कप हॉकी: आख़िरी मिनट में गुर्जन्त के गोल से बचा भारत, कोरिया के साथ मुकाबला 1-1 से ड्रॉ

फाइल फोटो

खास बातें

  1. ढाका में खेला जा रहा एशिया कप हॉकी टूर्नामेंट
  2. सुपर-4 में भारत और दक्षिण कोरिया के बीच रोमांचक मुक़ाबला
  3. गुर्जन्त सिंह के गोल की बदौलत कोरिया के साथ मैच हुआ ड्रॉ
नई दिल्ली: एशिया कप के सुपर-4 में भारत और दक्षिण कोरिया के बीच हुआ रोमांचक मुक़ाबला आख़िरी मिनट तक उतार-चढ़ाव से भरा रहा. भारतीय टीम की ओर से गुर्जन्त सिंह ने इकलौता गोल किया और टीम के आगे की राह मुश्किल नहीं होने दी. सुपर-4 में भारत की टक्कर कल मलेशिया और 21 तारीख़ को पाकिस्तान से होगी. 

ढाका में चल रहे एशिया कप के सुपर-4 में भारत के पहले मैच में चार बार की चैंपियन कोरियाई टीम ने भारत को कड़ी चुनौती दी. कोरियाई टीम फ़्लैंक बदलकर खेलती रही. दो बार की चैंपियन भारत लगातार मौक़े की तलाश में दिखी. दूसरे क्वार्टर में भी दोनों टीमें सावधानी बरत कर ग़लतियों से बचती रहीं. ऐसे में हाफ़ टाइम तक मुक़ाबला बिना गोलों के बराबरी पर रहा. दोनों टीमों की रक्षापंक्ति मज़बूत दिखी. लेकिन फ़ॉरवर्ड खिलाड़ी गोल बनाने के अच्छे मौक़े बनाने से चूकते रहे. 

पढ़ें: एशिया कप हॉकी : भारत ने पाकिस्तान को 3-1 से शिकस्त देकर जीत की 'हैट्रिक' पूरी की

टिप्पणियां
भारतीय टीम के डच कोच शोर्ड मरीन्ये की टीम के आक्रामक तेवर नहीं अपनाने का ख़ामियाज़ा उन्हें तीसरे क्वार्टर में भुतना पड़ा. कोरियाई टीम ने वरुण कुमार की ग़लती का फ़ायदा उठाया और तीसरे क्वार्टर में जुंगजुन ली ने दक्षिण कोरिया को 1-0 की बढ़त दिला दी. 

चौथे क्वार्टर के आख़िरी में भारतीय टीम ऑल आउट अटैक करती रही. अंतिम पांच मिनट में भारतीय खिलाड़ी कोरियाई-D में छाये रहे. 60वें मिनट में गुर्जन्त सिंह ने गोल कर टीम को अहम मैच में हार से बचा दिया. 
दोनों टीमों को अंक ज़रूर बांटने पड़े. लेकिन इस ड्रॉ से भारतीय टीम सुपर-4 की बड़ी मुश्किलों से फ़िलहाल ज़रूर बच गई. मैच ख़त्म होते ही भारतीय खिलाड़ी, सपोर्टिंग स्टाफ़ और फ़ैन्स के चेहरों के चेहरों पर खुशी के साथ राहत के भाव को पढ़ना मुश्किल नहीं था. 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement