NDTV Khabar

11 महीने बाद ट्रैक पर लौटीं सुधा और छा गईं, स्टीपलचेज में जीता स्वर्ण

सोने का तमगा हासिल करने के बाद एथलीट सुधा सिंह ने कहा, "ओलम्पिक के बाद मैं पांच महीनों तक खेल से दूर रही. जब मैंने अभ्यास करना शुरू किया तब भी मैं अच्छा नहीं कर पा रही थी. दिसंबर में मैंने राष्ट्रीय शिविर में हिस्सा लिया और धीरे-धीरे रफ्तार पकड़ी."

571 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
11 महीने बाद ट्रैक पर लौटीं  सुधा और छा गईं, स्टीपलचेज में जीता स्वर्ण

खास बातें

  1. रियो ओलंपिक के बाद पहली बार प्रतियोगिता में उतरीं एथलीट सुधा सिंह
  2. 3,000 मीटर स्टीपलचेज स्पर्धा में स्वर्ण पदक पर कब्जा जमाया
  3. सुधा ने इस दूरी को नौ मिनट 59.47 सेकेंड में हासिल किया
भुवनेश्वर: देश की अग्रणी लम्बी दूरी की एथलीट सुधा सिंह ने शानदार प्रदर्शन करते हुए एशियन एथलेटिक्स चैम्पियनशिप में महिलाओं की 3,000 मीटर स्टीपलचेज स्पर्धा में स्वर्ण पदक पर कब्जा जमाया है. सुधा ने इस दूरी को नौ मिनट 59.47 सेकेंड में हासिल किया. उत्तर कोरिया की ह्यो गयोंग ने दूसरा और जापान की नाना सातो ने तीसरा स्थान पाया. रियो ओलम्पिक-2016 के बाद चोटों और बीमारियों से जूझ रहीं सुधा अपने प्रदर्शन से खुश दिखीं. 

सोने का तमगा हासिल करने के बाद उन्होंने कहा, "ओलम्पिक के बाद मैं पांच महीनों तक खेल से दूर रही. जब मैंने अभ्यास करना शुरू किया तब भी मैं अच्छा नहीं कर पा रही थी. दिसंबर में मैंने राष्ट्रीय शिविर में हिस्सा लिया और धीरे-धीरे रफ्तार पकड़ी." उन्होंने कहा, "इस चैम्पियनशिप में एशिया के शीर्ष खिलाड़ी नहीं आए हैं इसलिए यहां का स्तर मेरे हिसाब से थोड़ा कम था."

इस ओलम्पियन ने कहा, "मैं दो ओलम्पिक में हिस्सा ले चुकी हूं और कुछ हासिल करना चाहती हूं. मैं अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर पदक जीतना चाहती हूं. मेरा लक्ष्य एशियन चैम्पियनशिप में अच्छा प्रदर्शन करना था. अब मैं अगले महीने होने वाली विश्व चैम्पियनशिप में अच्छा प्रदर्शन करना चाहती हूं."

इस स्पर्धा में भारत की एक अन्य धाविका पारुल चौधरी को चौथा स्थान मिला. पारुल निराशाजनक तौर पर 10.22.99 मिनट का समय निकाल सकीं.

इनपुट: भाषा


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement