NDTV Khabar

एशियाड की पदक विजेता दिव्या काकरन ने केजरीवाल को सुनाई खरी-खरी, कहा-जरूरत के वक्त नहीं मिली मदद

एशियाड की कांस्य पदक विजेता पहलवान दिव्या काकरन ने दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल से नाराजगी जाहिर की. कहा-जब जरूरत होती है तो कोई मदद नहीं करता.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
एशियाड की पदक विजेता दिव्या काकरन ने केजरीवाल को सुनाई खरी-खरी, कहा-जरूरत के वक्त नहीं मिली मदद

पहलवान दिव्या काकरन की फाइल फोटो.

खास बातें

  1. एशियाड की पदक विजेता दिव्या काकरन का दिल्ली सरकार पर हमला
  2. बोलीं-जरूरत के वक्त कोई नहीं करता मदद
  3. पहले मदद मिलती तो जीत सकती थी गोल्ड
खिलाड़ियों को जब प्रतियोगिता से पहले तैयारियों के दौरान मदद की जरूरत होती है तो कोई सामने नहीं आता. मगर ,जब खिलाड़ी विपरीत हालात से लड़ते हुए अपने संघर्षों के दम पर पदक जीतने पर कामयाब होते हैं तब सरकारें इनाम की बारिश करतीं हैं. अगर समय से मदद मिल जाए तो खिलाड़ी और बेहतर प्रदर्शन कर सकते हैं. कुछ यही दर्द  एशियाड की कांस्य पदक विजेता पहलवान दिव्या काकरन का दिल्ली सरकार के कार्यक्रम में छलक आया. उन्होंने मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को खरी-खरी सुनाते हुए कहा कि आश्वासन के बाद भी मदद के लिए कोई सामने नहीं आया. यहां तक कि किसी जिम्मेदार ने उनका फोन भी नहीं उठाया.

 पहलवान दिव्या काकरन ने दिल्ली सरकार को आड़े हाथ लेते हुए आरोप लगाया है कि इन खेलों से पहले उन्हें सरकार की तरफ से कोई मदद नहीं मिली और यदि जरूरत के समय उन्हें मदद मिली होती, तो वह स्वर्ण पदक भी जीत सकती थी. दिल्ली सरकार की ओर से यहां बुधवार को आयोजित सम्मान समारोह में काकरन ने कहा, “जरूरत के समय कोई भी हमारी मदद नहीं करता है.अगर मुझे मदद मिली होती तो मैं स्वर्ण पदक भी जीत सकती थी.”  

 
काकरन ने एशियाई खेलों में महिलाओं के 68 किलोग्राम फ्रीस्टाइल वर्ग में ताइपे की चेन वेनलिंग को हराया. दिल्ली सचिवालय में मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल से बातचीत में काकरन ने कहा कि राष्ट्रीय राजधानी की सरकार ने पदक जीतने के बाद उन्हें मदद की पेशकश की, लेकिन ‘जरूरत के समय’ उन्हें मदद नहीं मिली.काकरन ने कहा, “मैंने राष्ट्रमंडल खेलों में पदक हासिल किया. इसके बाद आपने मुझे मदद का आश्वासन दिया.जब मैंने एशियाई खेलों की तैयारी के लिए मदद मांगी तो मुझे नहीं मिली.मैंने लिखित तौर पर भी दिया लेकिन किसी ने मेरा फोन तक नहीं उठाया.”

  दिव्या काकरन ने मुख्यमंत्री से गरीब बच्चों की मदद की अपील की. केजरीवाल ने धैर्य के साथ उनकी बातों को सुना और कहा कि वह उनसे सहमत हैं लेकिन उनकी सरकार कई अवरोधों का सामना कर रही थी. अरविंद केजरीवाल ने कहा कि पहले की खेल नीति में गड़बड़ियां थी, उसे दुरुस्त कर खिलाड़ियों की मदद करने को सरकार तत्पर है.(इनपुट-भाषा)

टिप्पणियां
वीडियो-एशियाड के चैंपियनों ने साझा किया अपना अनुभव 


 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement