NDTV Khabar

एशियाई खेल : आखिरी क्षणों में पिछड़ीं भारतीय धाविका टिंटू, मिला रजत

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
एशियाई खेल : आखिरी क्षणों में पिछड़ीं भारतीय धाविका टिंटू, मिला रजत

टिंटू लुका (दाहिने) दूसरी स्थान पर रहीं

इंचियोन: भारत की मध्यम दूरी की धाविका टिंटू लुका एक बार फिर शानदार प्रदर्शन करने के बाद स्वर्ण पदक से चूक गईं। टिंटू बुधवार को 17वें एशियाई खेलों में महिलाओं की 800 मीटर स्पर्धा में लगभग पूरे समय सबसे आगे बनी रहीं, लेकिन आखिरी क्षणों में कजाकिस्तान की धाविका मार्गरीटा मुकाशेवा उनसे आगे निकल गईं और टिंटू को दूसरे स्थान पर रहते हुए रजत पदक से संतोष करना पड़ा।

भारत की दिग्गज धाविका पीटी ऊषा की शिष्या टिंटू चार वर्ष पहले क्वांगचो में हुए एशियाई खेलों में भी रेस के आखिरी 50 मीटर में अपनी लीड गंवा बैठी थीं और उन्हें रजत पदक से संतोष करना पड़ा था। इंचियोन एशियाड मेन स्टेडियम में हुए स्पर्धा के फाइनल मुकाबले में टिंटू ने सीजन का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन किया।

एक अन्य भारतीय धाविका सुषमा देवी ने भी पदक के लिए अपना पूरा दमखम लगाया और अपना व्यक्तिगत सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन किया, हालांकि वह चौथे स्थान पर रहते हुए कांस्य पदक से चूक गईं। टिंटू ने शानदार प्रदर्शन करते हुए 1:59.19 सेकेंड का समय निकाला। मार्गरीटा ने एशियाई खेलों में नया कीर्तिमान स्थापित करते हुए स्वर्ण पदक हासिल किया।

मार्गरीटा ने 1:59.02 सेकेंड में रेस पूरी की। चीन की जिंग झाओ ने भी अपना व्यक्तिगत सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन किया और 1:59.48 सेकेंड का समय निकालते हुए कांस्य पदक हासिल किया। चौथे स्थान पर रहीं भारतीय धाविका सुषमा देवी ने 2:01.92 सेकेंड में रेस पूरी की।

टिप्पणियां

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement