श्रीलंकाई क्रिकेटरों को थी बंधक बनाने की योजना

खास बातें

  • लाहौर में श्रीलंकाई टीम पर हमले के एक प्रमुख आरोपी के मुताबिक क्रिकेटरों को बंधक बनाकर उनके बदले आतंकियों की रिहाई की योजना थी।
कराची:

पाकिस्तान के लाहौर शहर में 2009 में श्रीलंकाई क्रिकेट टीम पर हुए आतंकी हमले के मामले में एक प्रमुख आरोपी ने दावा किया है कि लश्कर-ए-झांगवी संगठन ने भ्रमणकारी क्रिकेटरों को बंधक बनाकर उनके बदले अपने गिरफ्तार साथियों की रिहाई की योजना बनाई थी। अब्दुल वहाब उर्फ उमर ने 'जियो न्यूज' से कहा कि श्रीलंकाई टीम पर हमले की योजना वजीरिस्तान में बनाई गई थी। वहाब ने कहा, हमले की योजना वजीरिस्तान में बनाई गई और इस मिशन की जिम्मेदारी हम 12 को दी गई। मैं लश्कर-ए-झांगवी अमजद फारूकी गुट का सदस्य हूं। इस आरोपी ने कहा कि लिबर्टी गोलचक्कर पर हुए इस हमले का उद्देश्य श्रीलंकाई क्रिकेटरों को बंधक बनाना था। वहाब ने कहा, हमें उनको बंधक बनाना था और फिर हमारे शीर्ष नेता उनकी रिहाई के बदले हिरासत में चल रहे हमारे साथियों को छोड़ने की मांग करते। वजीरिस्तान में प्रशिक्षण पाने वाले वहाब ने कहा, हम रिक्शा और मोटरसाइकिलों में आए थे, जिन्हें हमने इसी हमले के लिए खरीदा था। उल्लेखनीय है कि मार्च, 2009 में खिलाड़ियों पर हुए हमले में पांच श्रीलंकाई क्रिकेटर घायल हुए थे, जबकि छह पाकिस्तानी पुलिसकर्मी और एक वाहन चालक की मौत हो गई थी। इसी हमले की वजह से अगले महीने उपमहाद्वीप में होने वाले विश्वकप के मैचों की मेजबानी पाकिस्तान से छीन ली गई।

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com