भारत को अभी बैडमिंटन में सुपर पावर बनने के लिये लंबा सफर तय करना है : गोपीचंद

पिछले कुछ अर्से में पी वी सिंधू ने ओलंपिक और विश्व चैम्पियनशिप में रजत पदक जीते और कई सुपर सीरिज खिताब अपने नाम किये.

भारत को अभी बैडमिंटन में सुपर पावर बनने के लिये लंबा सफर तय करना है : गोपीचंद

भारत को अभी बैडमिंटन में सुपर पावर बनने के लिये लंबा सफर तय करना है : गोपीचंद (File Pic)

ओडेंसे:

भारतीय बैडमिंटन खिलाड़ियों का पिछले कुछ अर्से से खेल में दबदबा रहा है लेकिन मुख्य राष्ट्रीय कोच पुलेला गोपीचंद का मानना है कि अभी देश को इस खेल में महाशक्ति बनने के लिये लंबा सफर तय करना है. पिछले कुछ अर्से में पी वी सिंधू ने ओलंपिक और विश्व चैम्पियनशिप में रजत पदक जीते और कई सुपर सीरिज खिताब अपने नाम किये.

साइना नेहवाल ने चोट से उबरने के बाद वापसी करते हुए विश्व चैम्पियनशिप में कांस्य पदक जीता जबकि किदाम्बी श्रीकांत ने एक सत्र में तीन सुपर सीरिज खिताब अपने नाम किये.

पढ़ें : साइना बोलीं, फिटनेस ठीक रही तो फिर से बन सकती हूं वर्ल्‍ड नंबर वन

यह पूछने पर कि क्या भारत अब बैडमिंटन में विश्व विजेता बन गया है, गोपीचंद ने कहा,अभी यह कहना जल्दबाजी होगी’ उन्होंने इंटरव्यू में कहा,अभी एक व्यवस्था के तौर पर हम इसके लिये तैयार नहीं है. अभी बहुत से लोग विश्व स्तर पर खेल को समझते नहीं है लिहाजा यह कहना जल्दबाजी होगी. हमारे पास अपार संभावनायें हैं लेकिन व्यवस्था को दुरूस्त करने की जरूरत है.’

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


VIDEO- क्रिकेट को छोड़ दें तो बैडमिंटन भारत का नंबर-1 खेल : पुलेला गोपीचंद

पिछले एक साल में भारतीय खिलाड़ियों ने छह सुपर सीरिज खिताब जीते. श्रीकांत की हैट्रिक के अलावा सिंधू ने दो और बी साइ प्रणीत ने एक खिताब जीता. गोपीचंद ने कहा,‘‘यह साल अच्छा रहा. हमने विश्व चैम्पियनशिप, सुपर सीरिज में अच्छा प्रदर्शन किया. बड़े टूर्नामेंटों में प्रदर्शन अच्छा रहा और अगले दो तीन साल के लिये यह मील का पत्थर रहा जिसमें राष्ट्रमंडल खेल, एशियाई खेल, ओलंपिक क्वालीफिकेशन और तोक्यो ओलंपिक खेलने हैं.’’