नरसिंह के साथ नाइंसाफी नहीं कर सकते, सुशील की मांग को मानने का सवाल नहीं : कुश्ती संघ

नरसिंह के साथ नाइंसाफी नहीं कर सकते, सुशील की मांग को मानने का सवाल नहीं : कुश्ती संघ

नई दिल्‍ली:

हाईकोर्ट के आदेश के मुताबिक सुशील कुमार और नरसिंह यादव मामले पर भारतीय कुश्ती संघ में मीटिंग हुई। सुशील इस मीटिंग में अपने ट्रायल्स की मांग को लेकर कायम रहे जबकि अध्यक्ष, उपाध्यक्ष, सेक्रेटरी और मुख्य कोच ने सुशील को ये समझाने की कोशिश की कि अगर उनकी मांग मान ली गई तो नरसिंह के साथ नाइंसाफ़ी हो सकती है।

कुश्ती संघ को इस बारे में 23 तारीख़ को हाईकोर्ट में अपना जवाब पेश करना है, जबकि इस मामले पर अगली सुनवाई 27 मई को होगी।

भारतीय कुश्ती संघ के अध्यक्ष बृजभूषण शरण सिंह ने फ़ैसला तो नहीं सुनाया लेकिन कई इशारे किये जिससे साफ़ था कि सुशील के लिए ट्रायल्स की संभावना ना के बराबर है। ऐसे में मौजूदा हालात में सुशील का रियो जाना मुमकिन नहीं दिखता।

पत्रकारों से पूछे जाने पर कुश्ती संघ के अध्यक्ष बृज भूषण ने ये भी कहा कि सुशील को नेशनल कैंप में ट्रेनिंग की इजाज़त नहीं दी जा सकती। उन्होंने ये भी कहा कि उन्होंने मीटिंग में सुशील के सामने ये सवाल रखा कि अगर वो उनकी जगह होते तो क्या करते।

Newsbeep

इस मीटिंग में सुशील के साथ उनके कोच सतपाल सिंह भी मौजूद थे। उन्होंने बाहर आकर कहा कि मीटिंग अच्छे माहौल में हुई और उन्होंने अधिकारियों के सामने अपना पक्ष रख दिया है।

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


इस मसले का फ़ैसला अदालत इस महीने के आख़िर में सुनाएगी। तब तक कुश्ती कैंप में थोड़ी हलचल ज़रूर रहेगी। लेकिन कुश्ती संघ का इशारा समझा जाए तो सुशील के रियो के दरवाज़े बंद ही नज़र आते हैं।