चैंपियंस ट्रॉफी: चैंपियन बनी तो ऊंचे मनोबल से रियो ओलिंपिक में उतरेगी भारतीय टीम !

चैंपियंस ट्रॉफी: चैंपियन बनी तो ऊंचे मनोबल से रियो ओलिंपिक में उतरेगी भारतीय टीम !

लीग मैच में भारतीय टीम को ऑस्ट्रेलिया से हार का सामना करना पड़ा था। (फाइल फोटो)

प्रतिष्ठित चैंपियंस ट्रॉफी हॉकी में इतिहास रचते हुए पीआर श्रीजेश के नेतृत्‍व वाली भारतीय टीम ने फाइनल में स्‍थान बना लिया है। दुनिया की शीर्ष छह टीमों के बीच खेली जाने वाली इस प्रतियोगिता में भारतीय टीम पहली बार फाइनल में  पहुंची है। इससे पहले टीम का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन कांस्य पदक के रूप में था जो उसके करीब 34 साल पहले 1982 में एमस्टलवीन (नीदरलैंड्स ) में हासिल किया था।

इसलिए अहम है टीम का फाइनल में पहुंचना
'डॉर्क हार्स' के रूप में प्रतियोगिता में उतरी भारतीय टीम का फाइनल में प्रबल दावेदार ऑस्ट्रेलिया से मुकाबला होगा। भारत का चैंपियंस ट्रॉफी के फाइनल में पहुंचना इस लिहाज से भी बड़ी उपलब्धि है कि टीम ने अपने दो प्रमुख खिलाड़ि‍यों सरदार सिंह और रूपिंदर पाल सिंह को आराम दिया था। गौरतलब है कि सरदार टीम में 'प्‍लेमेकर' की भूमिका निभाने के अलावा डिफेंस में भी बेजोड़ हैं जबकि रूपिंदर अच्छे डिफेंडर होने के साथ-साथ पेनल्‍टी कार्नर कन्वर्जन में टीम के आधारस्‍तंभ रहे हैं। इन दो प्रमुख खिलाड़ि‍यों की गैरमौजूदगी के बावजूद टीम की युवा ब्रिगेड ने टूर्नामेंट में अब तक बेहतरीन खेल दिखाया है।

अजलान शाह हॉकी के फाइनल में ऑस्ट्रेलिया से हार चुका है भारत
खिताबी मुकाबले में श्रीजेश की टीम के पास ऑस्ट्रेलिया से लीग मैच में मिली हार का बदला चुकाने का अवसर होगा। लीग मैच के अपने आखिरी मैच में भारत को ऑस्ट्रेलिया से 2-4 के अंतर से हार का सामना करना पड़ा था। भारतीय टीम के लिये फाइनल मैच इसी वर्ष अप्रैल माह में अजलान शाह कप के फाइनल में ऑस्ट्रेलिया से मिली हार के गम को भुलाने का अवसर होगा। अगस्त में खेलों के महाकुंभ रियो ओलिंपिक के पहले यह खिताबी जीत  (यदि मिली तो) भारतीय टीम के मनोबल को नई ऊंचाई दे सकती है....।

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com