राष्ट्रमंडल आयोजकों पर मुकदमा करेगी कंपनी

खास बातें

  • राष्ट्रमंडल खेलों के उद्घाटन और समापन समारोहों से जुड़ी रही एक ऑस्ट्रेलियाई कंपनी को अभी तक आयोजन समिति से बिलों का भुगतान नहीं मिला है।
सिडनी:

विवादों से घिरे रहे दिल्ली राष्ट्रमंडल खेल एक बार फिर विवाद में फंस गए हैं, क्योंकि बकाया बिलों को लेकर एक ऑस्ट्रेलियाई कंपनी ने आयोजकों पर मुकदमा दायर करने का फैसला किया है। राष्ट्रमंडल खेलों के उद्घाटन और समापन समारोहों से जुड़ी रही एक ऑस्ट्रेलियाई कंपनी को अभी तक आयोजन समिति से बिलों का भुगतान नहीं मिला है लिहाजा उसने कानूनी कार्रवाई का रूख करने का फैसला किया है। ऑस्ट्रेलियाई वेबसाइट एबीसी डाट नेट डाट एयू के अनुसार दोनों समारोहों को अंजाम देने वाले रिक बिर्च ने बताया कि अभी तक उन्हें भुगतान नहीं मिला है। उन्होंने कहा, मैने साल भर के भीतर 12 लोगों की सेवाए ली, जिनमें कोरियोग्राफर, प्रोड्यूसर और कार्यकारी प्रोड्यूसर के रूप में मैं खुद शामिल था। उन्होंने कहा, ये सभी उद्घाटन और समापन समारोहों में शामिल थे। बिर्च ने कहा कि उन्होंने बकाया बिलों को लेकर आयोजकों से बात करने की कोशिश की, लेकिन पहले उनके फोन का कोई जवाब नहीं मिला। उन्होंने कहा, आखिरकार दिसंबर में आयोजन समिति के महासचिव ललित भनोत से मुझे पत्र मिला, जिसमें लिखा था कि वे परफार्मेंस गारंटी का दावा करना चाहते हैं, क्योंकि मिस्टर बिर्च का प्रदर्शन अपेक्षा के अनुरूप नहीं था। बिर्च अब आयोजन समिति पर मुकदमा ठोकने की सोच रहे हैं ताकि उन्हें हजारों डालर की बकाया फीस मिल सके। बिर्च ने कहा, राष्ट्रमंडल खेलों के उद्घाटन समारोह में 15 अन्य कंपनियां भी शामिल थी। करीब आधे लोगों को तीन महीने बाद भुगतान मिल गया, लेकिन इनमें कंपनियां शामिल नहीं हैं। उन्होंने कहा कि मेक्सिको या चीन, बार्सीलोना या लॉस एंजीलिस ओलंपिक या अन्य राष्ट्रमंडल खेलों में उन्हें ऐसी समस्या का सामना कभी नहीं करना पड़ा। उन्होंने कहा, हम दिल्ली खेलों की आयोजन समिति से इतने त्रस्त हो चुके हैं कि हमले फैसला किया है कि इंडिया के मायने हैं इंडिया...आई विल नेवर डू इट अगेन। ऑस्ट्रेलिया राष्ट्रमंडल खेल संघ को भी यात्रा रियायतों के तौर पर समिति से एक लाख डालर लेने हैं। इसके मुख्य कार्यकारी पैरी क्रासव्हाइट आयोजन समिति के संपर्क में हैं।

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com