NDTV Khabar

Commonwealth Games 2018: पहले दिन भारत की पदक जीतने की उम्‍मीदें मीराबाई चानू पर टिकीं ...

भारत 21वें कॉमनवेल्‍थ गेम्‍स में गुरुवार को जब अपने अभियान का आगाज करेगा तो सभी का फोकस विश्व चैम्पियन भारोत्तोलक मीराबाई चानू पर होगा. चानू को पदक यहां तक की स्‍वर्ण पदक का प्रबल दावेदार माना जा रहा है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
Commonwealth Games 2018: पहले दिन भारत की पदक जीतने की उम्‍मीदें मीराबाई चानू पर टिकीं ...

कॉमनवेल्‍थ गेम्‍स 2014 में मीराबाई चानू ने रजत पदक जीता था (फाइल फोटो)

खास बातें

  1. भारोत्‍तोलन के 48 किलो वर्ग में उतरेंगी
  2. पिछले कॉमनवेल्‍थ गेम्‍स में जीता था रजत
  3. हॉकी टीम भी अपने अभियान का आगाज करेगी
गोल्ड कोस्ट:
टिप्पणियां
भारत 21वें कॉमनवेल्‍थ गेम्‍स में गुरुवार को  जब अपने अभियान का आगाज करेगा तो सभी का फोकस विश्व चैम्पियन भारोत्तोलक  मीराबाई चानू पर होगा. चानू को पदक यहां तक की स्‍वर्ण पदक का प्रबल दावेदार माना जा रहा है. कॉमनवेल्‍थ गेम्‍स 2014 में रजत पदक जीत चुकीं चानू 48 किलो वर्ग में भारत के लिए पदक की उम्‍मीद हैं. उसका सर्वश्रेष्ठ निजी प्रदर्शन 194 किलो है जो इस स्पर्धा में उसकी निकटतम प्रतिद्वंद्वी से 10 किलो अधिक है. इन खेलों में भाग ले रहे किसी भारोत्तोलक ने 180 किलो पार नहीं किया है. चानू की निकटतम प्रतिद्वंद्वी कनाडा की अमांडा ब्राडोक है जिसका सर्वश्रेष्ठ निजी प्रदर्शन 173 किलो है. भारतीय बैडमिंटन खिलाड़ी, मुक्केबाज और महिला हॉकी टीम के साथ टेबल-टेनिस खिलाड़ी भी अपने अभियान का कल आगाज करेंगे. पिछली बार पांचवें स्थान पर रही महिला हाकी टीम कल वेल्स से पहला मैच खेलेगी. खेलों से पहले दक्षिण कोरिया दौरे पर भारत का प्रदर्शन अच्छा रहा है जहां उसने सीरीज जीती थी. कोच हरेंद्र सिंह ने कहा,‘हमने इन खेलों के लिये काफी मेहनत की है ।उम्मीद है कि नतीजे अच्छे रहेंगे.’बैडमिंटन में भारतीय टीम सितारों से भरी है और पहले ही दिन काफी व्यस्त कार्यक्रम है. मिश्रित वर्ग में भारत का सामना श्रीलंका और पाकिस्तान से होगा. श्रीलंका के खिलाफ मुकाबला सुबह है जबकि पाकिस्तान के खिलाफ दूसरे हाफ में खेलना है. पीवी सिंधु और किदाम्बी श्रीकांत जैसे दिग्गजों के लिए ये मुकाबले बेहद आसान साबित होंगे. खेलगांव में अपने पिता को जगह नहीं मिलने के बाद खेलों से बाहर होने की धमकी देने वाली साइना नेहवाल अब मामला सुलझने के बाद अपने रैकेट से उम्दा प्रदर्शन करना चाहेगी. मुक्केबाजी में 2010 राष्ट्रमंडल खेलों के स्वर्ण पदक विजेता मनोज कुमार ( 69 किलो ) रिंग में उतरेंगे. उनका सामना पहले मुकाबले में नाइजीरिया के ओसिता उमेह से होगा । उन पर अच्छे प्रदर्शन के साथ सीरिंज विवाद से फोकस हटाने की भी जिम्मेदारी होगी. स्क्वाश कोर्ट पर दीपिका पल्लीकल, जोशना चिनप्पा, सौरव घोषाल और हरिंदर पाल संधु अपने अभियान की शुरूआत करेंगे. जोशना और दीपिका ने 2014 खेलों में महिला युगल में स्वर्ण जीता था. अब देखना है कि क्या एकल पदक भारत की झोली में गिरता है.

वीडियो: महिला बॉक्‍सर एमसी मैरीकॉम से खास बातचीत
टेबल टेनिस टीम भी विवाद के साये में यहां आई है जब सीनियर खिलाड़ी सौम्यजीत घोष को रेप के आरोपों के चलते ऐन मौके पर बाहर कर दिया गया. महिला टीम कल वनाउतू और फीजी से खेलेगी जबकि पुरुष टीम का सामना त्रिनिदाद और टोबैगो और उत्तरी आयरलैंड से होगा. कलात्मक जिम्नास्टिक में भारतीय पुरुष टीम पहले दिन चुनौती पेश करेगी. ऐसे में नजरें वापसी कर रहे आशीष कुमार पर रहेंगी जो राष्ट्रमंडल खेलों में पदक जीतने वाले पहले भारतीय जिम्नास्ट हैं. उन्होंने फ्लोर में कांस्य और वाल्ट में रजत पदक जीता था. साइकिलिस्ट से पदक की उम्मीद नहीं है हालांकि पिछले कुछ अर्से में कोई उपलब्धि नहीं होने के बावजूद देबोराह हेरोल्ड्स पर नजरें होंगी. महिला बास्केटबाल टीम कल जमैका से और पुरुष टीम कैमरून से खेलेगी.  (इनपुट: एजेंसी)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement