NDTV Khabar

CWG 2018: भारत ने बैडमिंटन में टीम वर्ग का स्वर्ण जीता, मलेशिया को 3-1 से धोया

 शुरुआत भारत ने मिक्स्ड वर्ग के मुकाबले में जीत के साथ की थी, जब सात्विकरैंकीरेड्डी और अश्विनी पोनप्पा की जोड़ी मलेशिया के पोंग सून चान और लु यिंग गोह को मात दी

34 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
CWG 2018: भारत ने बैडमिंटन में टीम वर्ग का स्वर्ण जीता, मलेशिया को 3-1 से धोया

आखिरी मैच जीतकर सायना नेहवाल ने स्वर्ण पर भारत का कब्जा कर दिया

खास बातें

  1. सात्विक रंकीरेड्डी और अश्विनी पोनप्पा ने दिलाई थी बढ़त
  2. श्रीकांत किदांबी ने बढ़त को 2-0 किया
  3. पुरुष डबल्स में मिली हार, सायना ने सिंगल्स में जीत से स्कोर 3-1 किया
गोल्ड कोस्ट: स्टार सायना नेहवाल की अगुवाई में भारत ने पांचवें दिन भारत के सोने के तमगों में इजाफा करते हुए 21वें कॉमनवेल्थ खेलों के बैटमिंटन की टीम स्पर्धा के स्वर्ण पदक पर कब्जा कर लिया. भारत ने मलेशिया को 3-1 से हराकर स्वर्ण पदक पर कब्जा किया. यह प्रतियोगिता के पांचवें दिन भारत को मिलने वाला स्वर्ण पदक रहा. इससे पहले भारत ने सुबह जीतू राय के स्वर्ण के साथ शुरुआत की थी, जिसे पुरुष टीटी टीम ने आगे बढ़ाया, तो बैडमिंटन टीम ने इस संख्या में और इजाफा किया. कुल मिलाकर बैडमिंटन में स्वर्ण पदक जीतने के बाद तक भारत के प्रतियोगिता में कुल पदकों की संख्या 19 हो गई है. इसमें 10 स्वर्ण, 4 रजत और पांच कांस्य पदक हैं. 
  दूसरे सिंगल्स मुकाबले मे भारत के स्टार पुरुष खिलाड़ी श्रीकांत किदांबी उम्मीदों पर पूरी तरह खरे उतरे. और उन्होंने मलेशिया के चोंग वेई ली को सीधे सेटों में 21-17, 21-14 से हराकर भारत की बढ़त को 2-1 कर दिया. भारतीय खेलप्रेमी उम्मीद कर रहे थे कि भारतीय टीम मलेशिया का सूपड़ा साफ करते हुए उसे 3-0 से मात देकर स्वर्ण पदक पर कब्जा करेगी, लेकिन ऐसा नहीं हुआ.
  यह भी पढ़ें : राष्ट्रमंडल खेल (निशानेबाजी) : 10 मीटर एयर पिस्टल में जीतू को स्वर्ण, मिथारवल ने जीता कांस्य

टिप्पणियां
तीसरे और पुरुष डबल्स मुकाबले में मलेशिया के वी शेम गोह और वी कियॉंग की जोड़ी ने भारत के सात्विक रैंकीरेड्डी और चिरांग चंद्रशेखर शेट्टी को सीधे गेम में 21-15, 22-20 से हराकर स्कोर लाइन 2-1 कर दी. अब दो मुकाबले अभी भी बचे हुए थे, लेकिन सायना नेहवाल ने इसकी नौबत नहीं ही आने दी. 

VIDEO: कुछ ही दिन पहले भारतीय हॉकी कप्तान रानी रामपाल ने एनडीटीवी से बात की थी. 
चौथे मैच में हालांकि सायना नेहवाल को भी एक गेम गंवाना पड़ा, लेकिन उन्होंने मलेशिया की सोनिया चेयाह को 21-11, 19-21 और 21-9 से धूल चटाते हुए स्कोर 3-1 कर दिया. और इसी के साथ भारत ने बैडमिंटन की टीम स्पर्धा के स्वर्ण पदक पर कब्जा कर लिया. 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement