NDTV Khabar

विश्‍व एथलेटिक्‍स चैंपियनशिप : जैवलिन थ्रो में देविंदर कांग ने किया निराश, 12वें स्थान पर रहे

देविंदर सिंह कांग विश्‍व एथलेटिक्‍स चैंपियनशिप के अपने अपने ऐतिहासिक फाइनल राउंड में देश की उम्‍मीदों पर खरे नहीं उतर पाए हैं.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
विश्‍व एथलेटिक्‍स चैंपियनशिप : जैवलिन थ्रो में देविंदर कांग ने किया निराश, 12वें स्थान पर रहे

देविंदर सिंह फाइनल राउंड में अच्‍छा प्रदर्शन नहीं कर सके (फाइल फोटो)

खास बातें

  1. तीसरे प्रयास में 80.02 मीटर का सर्वश्रेष्ठ थ्रो फेंक सके
  2. प्रतियोगिता में भारत का निराशाजनक प्रदर्शन जारी
  3. जर्मनी के जोहानेस वेटर ने जीता स्‍वर्ण पदक
लंदन: देविंदर सिंह कांग विश्‍व एथलेटिक्‍स चैंपियनशिप के अपने अपने ऐतिहासिक फाइनल राउंड में देश की उम्‍मीदों पर खरे नहीं उतर पाए हैं. पुरुष वर्ग की जैवलिन थ्रो इवेंट में वे निराशाजनक प्रदर्शन करते हुए 12वें स्थान पर रहे. इसके साथ ही भारत का यहां विश्व एथलेटिक्स चैम्पियनशिप में निराशाजनक प्रदर्शन जारी रहा. विश्व चैम्पियनशिप की जैवलिन थ्रो इवेंट के फाइनल के लिये क्वालीफाई करने वाले पहले भारतीय ने काफी लचर प्रदर्शन किया और वह ओलिंपिक स्टेडियम में अपने तीसरे प्रयास में 80.02 मीटर का सर्वश्रेष्ठ थ्रो फेंक सके.

उन्होंने 75.40 मीटर से शुरुआत की और 13 एथलीटों में अपने दूसरे प्रयास में फाउल कर बैठे. तीन राउंड के बाद वह बाहर हो गये जबकि शीर्ष आठ एथलीटों ने स्पर्धा जारी रखी. कांग का सत्र और व्यक्तिगत सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन 84.57 मीटर का है. सत्र में शीर्ष पर रहने वाले जर्मनी के जोहानेस वेटर ने 89.89 मीटर के सर्वश्रेष्ठ प्रयास से स्वर्ण पदक जीता जबकि चेक गणराज्य के दो एथलीट जाकुब वाडलेजिच (89.73 मीटर) और पेट्र फ्रिडिच (88.32 मीटर) ने क्रमश: रजत और कांस्य पदक अपने नाम किया. मौजूदा ओलंपिक चैम्पियन थामस रोहलर 88.26 मीटर के सर्वश्रेष्ठ प्रयास से चौथे स्थान पर रहे.

यह भी पढ़ें : अपनी आख़िरी रेस में घायल हुए उसेन बोल्‍ट, टूट गया गोल्‍ड का सपना

28 वर्षीय कांग को गांजा लेने का पॉजिटिव पाया गया था लेकिन फिर भी वह भारतीय टीम में जगह बनाने में सफल रहे थे क्योंकि इससे खिलाड़ी निलंबित नहीं होता. हालांकि उनके दायें कंधे चोटिल था, यह चोट उन्हें मई में लगी थी. दूसरे थ्रो के बाद वह अपने हाथ को दबाए हुए दिखे थे.



कांग ने स्पर्धा के बाद कहा, ‘मैंने अपना सर्वश्रेष्ठ करने की कोशिश की लेकिन दायें कंधे की चोट के कारण मुझे दर्द था, यह काफी तेज था और इसकी वजह से मैं अच्छा प्रदर्शन नहीं कर सका. मैं कोई बहाना नहीं बनाना चाहता लेकिन अगर मैं चोटिल नहीं होता तो मैं इससे बेहतर कर सकता था. मैं निराश हूं, मैंने देश को निराश कर दिया. ’ हालांकि पंजाब का यह एथलीट फिर भी विश्व चैम्पियनशिप में सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने वाला भारतीय एथलीट रहा. कांग ने गुरुवार को इतिहास रच दिया था जबकि हमवतन नीरज चोपड़ा से काफी उम्मीदें की जा रही थीं लेकिन वह निराशाजनक प्रदर्शन से क्वालीफिकेशन राउंड में बाहर हो गये थे.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement