NDTV Khabar

डेविस कप: संघर्षपूर्ण मुकाबले में कनाडा से 3-2 से हारी भारतीय टीम

डेविस कप के मुकाबले में भारतीय टीम को कनाडा के खिलाफ संघर्षपूर्ण मुकाबले में हार का सामना करना पड़ा है. रामकुमार रामनाथन को 'करो या मरो' के चौथे मैच में शिकस्त का सामना करना पड़ा.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
डेविस कप:  संघर्षपूर्ण मुकाबले में कनाडा से 3-2 से हारी भारतीय टीम

रामकुमार रामनाथन को अहम सिंगल्‍स में डेनिस शापोवालोव से हार का सामना करना पड़ा (फाइल फोटो)

खास बातें

  1. अहम मुकाबले में शापोवालोव से हारे रामकुमार रामनाथन
  2. अंतिम मुकाबले में युकी भांबरी ने हासिल की सांत्‍वना जीता
  3. भारत को अब फिर एशिया क्षेत्र में पेश करनी होगी चुनौती
एडमंटन: डेविस कप के मुकाबले में भारतीय टीम को कनाडा के खिलाफ संघर्षपूर्ण मुकाबले में हार का सामना करना पड़ा है. रामकुमार रामनाथन को 'करो या मरो' के चौथे मैच में शिकस्त का सामना करना पड़ा जिससे भारत को एक बार फिर एशिया क्षेत्र में चुनौती पेश करनी होगी जबकि डेनिस शापोवालोव ने यहां कनाडा को 3-2 से जीत दिलाकर एक बार फिर एलीट डेविस कप विश्व ग्रुप टेनिस टूर्नामेंट में वापसी कराई. भारत को रामकुमार से मुकाबले के अंतिम दिन चमत्कार की उम्मीद थी लेकिन वह मौकों को भुनाने में सफल रहे जिससे दुनिया के 51वें नंबर के खिलाड़ी शापोवालोव ने 6-3, 7-6, 6-3 की जीत के साथ कनाडा को 3-1 की विजयी बढ़त दिलाई. भारत ने मुकाबले के पहले दिन एक सिंगल्‍स जीता था जबकि दूसरे में उसे हार मिली थी. दूसरे दिन डबल्‍स मैच में रोहन बोपन्‍ना-पुरव राजा की जोड़ी को कनाडा की जोड़ी से हार का सामना करना पड़ा था.

युकी ने इसके बाद महज औपचारिकता के पांचवें मैच में ब्रायडन शनूर को 6-4, 4-6, 6-4 से हराया लेकिन भारत को कनाडा के खिलाफ इंडोर कोर्ट में हुए विश्व ग्रुप प्ले ऑफ मुकाबले में 2-3 से शिकस्त झेलनी पड़ी. उतार-चढ़ाव से भरे मैच में युकी ने निर्णायक सेट में शुरुआती ब्रेक से उबरते हुए पांचवें मैच प्वाइंट पर जीत दर्ज की.

यह भी पढ़ें : पेस डेविस कप टीम से बाहर, युकी भांबरी और साकेत माइनेनी की वापसी

भारत इसके साथ ही लगातार चौथे साल प्ले ऑफ की बाधा को पार करने में विफल रहा. पिछले तीन प्रयासों में उसे सर्बिया, चेक गणराज्य और स्पेन के खिलाफ शिकस्त का सामना करना पड़ा है. कनाडा ने इस तरह पिछले साल फरवरी में ग्रेट ब्रिटेन के खिलाफ पहले दौर में मिली शिकस्त के बाद 16 देशों के विश्व ग्रुप में वापसी की. भारत को अब फिर प्ले ऑफ चरण तक पहुंचने के लिए 2018 में एशिया ओसियाना ग्रुप एक में चुनौती पेश करनी होगी. रामकुमार जब तक संभल पाते तब तक शापोवालोव ने पहले गेम में उनकी सर्विस तोड़कर 4-1 की बढ़त बना ली थी. बाएं हाथ के खिलाड़ी शापोवालोव ने पहले आठ गेम में सिर्फ तीन अंक गंवाए. रामकुमार को कुछ शानदार रिटर्न की बदौलत नौवें गेम में दो ब्रेक प्वाइंट मिले लेकिन उन्होंने इन दोनों को बचाने के बाद ऐस के साथ पहला सेट अपने नाम किया.

वीडियो: राफेल नडाल के खेल से स्‍पेन फिर विश्‍व ग्रुप में पहुंचा
भारतीय खिलाड़ी ने दूसरे सेट में बेहतर प्रदर्शन किया और एक समय 5-4 से आगे चल रहे थे. रामकुमार को 12वें गेम में चार सेट प्वाइंट मिले लेकिन वह एक का भी फायदा नहीं उठा पाए और अंतत: टाईब्रेक में मैच के अपने पांचवें डबल फाल्ट के साथ उन्होंने दूसरा सेट भी गंवा दिया. दबाव के बावजूद शापोवालोव ने दूसरे सेट के अंतिम 15 में से 13 अंक जीते. रामकुमार छह में से एक भी ब्रेक प्वाइंट का फायदा नहीं उठा पाए जबकि शापोवालोव ने विषम परिस्थितियों में बेहतर प्रदर्शन किया.तीसरे सेट के छठे गेम में शापोवालोव ने रामकुमार की सर्विस तोड़कर 4-2 की बढ़त बनाई और फिर नौवें गेम में भारतीय खिलाड़ी की सहज गलती के साथ सेट और मैच अपने नाम किया.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement