NDTV Khabar

सोमदेव की टिप्पणी से डेविस कप कप्तान मिश्रा ‘निराश’

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां

खास बातें

  1. भारत के डेविस कप कप्तान एसपी मिश्रा ने उन्हें डेविस कप टीम से बाहर करने की सोमदेव देववर्मन की मांग के तर्क पर सवाल उठाते हुए कहा कि इस युवा टेनिस खिलाड़ी ने उस समय कुछ क्यों नहीं कहा जब उसने उनके नेतृत्व में कुछ सर्वश्रेष्ठ मैच खेले।
नई दिल्ली: भारत के डेविस कप कप्तान एसपी मिश्रा ने उन्हें डेविस कप टीम से बाहर करने की सोमदेव देववर्मन की मांग के तर्क पर सवाल उठाते हुए कहा कि इस युवा टेनिस खिलाड़ी ने उस समय कुछ क्यों नहीं कहा जब उसने उनके नेतृत्व में कुछ सर्वश्रेष्ठ मैच खेले।

मिश्रा ने कहा कि सोमदेव कैसे कह सकते हैं कि वह आधुनिक खेल के अनुरूप नहीं हैं।

मिश्रा ने कहा, ‘‘मुझे तब काफी निराशा हुई जब मैंने सुना कि सोमदेव नहीं चाहता कि मैं टीम की कप्तानी करूं। उसने मेरी कप्तानी में अपने कुछ सर्वश्रेष्ठ मैच खेले हैं।’’ भारतीय टेनिस को एक बार फिर विवादों का सामना करना पड़ रहा है जब सोमदेव की अगुआई में कुछ खिलाड़ियों ने देश में जिस तरह डेविस कप मैचों का आयोजन होता है उसमें कुछ बदलाव की मांग की है। उनकी एक मांग सहायक स्टाफ में बदलाव है।

सोमदेव अपने करियर के शीर्ष के दौरान भारत के नंबर एक एकल खिलाड़ी बने। उन्होंने इस दौरान डेविस कप में भारत का प्रतिनिधित्व करते हुए दुनिया के कुछ शीर्ष खिलाड़ियों को हराया।

सोमदेव ने डेविस कप में ब्राजील के दुनिया के 33वें नंबर के खिलाड़ी थोमाज बेलूसी, सर्बिया के दुनिया के नौवें नंबर के खिलाड़ी यांको टिप्सरेविच और चीनी ताइपे के येन सुन ल्यू और टिन चेन जैसे खिलाड़ियों को हराया। मिश्रा ने कहा, ‘‘यह सोमदेव के दिमाग की उपज लगती है और युवा खिलाड़ी शायद उससे प्रभावित है। उन्हें (युकी भांबरी, दिविज शरण और साकेत माइनेनी) इससे जुड़ने की जगह अपने भविष्य पर ध्यान देना चाहिए।’’

टिप्पणियां
डेविस कप कोच नंदन बल ने भी कहा कि वह खिलाड़ियों के बयान से हैरान हैं। उन्होंने हालांकि कहा कि उन्हें इस बात की परवाह नहीं कि खिलाड़ी क्या कहा रहे हैं।

उन्होंने कहा, ‘‘देखिए, खिलाड़ी क्या सोच रहे हैं मैं इसके मुताबिक काम नहीं करता। मैं एआईटीए के लिए काम करता हूं, उन्होंने मुझे कोच नियुक्त किया है। अगर वे चाहते हैं कि मैं आगे काम करूं तो मैं काम करूंगा। पेशेवर के रूप में मैं अपना काम कर रहा हूं। इसमें भावनाओं को जोड़ने का कोई मतलब नहीं है।’’


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement