NDTV Khabar

...फिर भी पीवी सिंधु इंडिया ओपन में खिताब नहीं बचा सकीं

इंडिया ओपन बैडमिंटन फाइनल का परिणाम यह बताने के लिए काफी है सिर्फ जीत का जज्बा होना ही काम आता है

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
...फिर भी पीवी सिंधु इंडिया ओपन में खिताब नहीं बचा सकीं

पीवी सिंधु का फाइल फोटो

खास बातें

  1. अच्छा संघर्ष देखने को मिला फाइनल में पर...
  2. फाइल में फिर हार गईं सिंधु
  3. झैंग ने 18-21, 21-11, 20-22 से हराया
नई दिल्ली: इंडिया ओपन बैडमिंटन टूर्नामेंट के फइनल में भारत की पीवी सिंधु को हार का सामना करना पड़ा. सिंधु यहां अपने खिताब को नहीं बचा सकीं. सिंधु को अमरीका की बीवेन झैंग ने हराया. इसी टूर्नामेंट में झैंग भारत की सायना नेहवाल को हरा चुकीं हैं. बहुत ही खास वजह रही, जिसके चलते झैंग की यह जीत बहुत ही यादगार और सराहनीय बन गई. झैंग ने पीवी सिंधु को 18-21, 21-11 और 20-11 से हराया.
वर्ल्ड रैंकिंग में चौथे नंबर की खिलाड़ी सिंधु पहले गेम की शुरुआत से ही पिछड़ते दिखी वर्ल्ड रैंकिंग में 11वें नंबर की झैंग ने बढ़त को बरक़रार रखते हुए पहला गेम 22 मिनट में 21-18 से जीता. दूसरे गेम में डिफेंडिंग चैंपियन सिंधु ने वापसी करते हुए स्कोर 11-4 पर ले आईं। झैंग ने वापसी की कोशिश की लेकिन दूसरा गेम नहीं बचा सकीं. सिंधु ने 21-11 से जीत हासिल की. तीसरे गेम के शुरुआत में झैंग से पिछड़ने के बाद ओलिंपिक सिल्वर मेडलिस्ट सिंधु ने वापसी की और स्कोर 12-12 की बराबरी पर आ गया. दोनों के बीच जोरदार टक्कर देखने को मिली.

यह भी पढें : बैडमिंटन: अश्‍विनी पोनप्‍पा ने डबल्‍स मैचों में अच्‍छे नतीजे मिलने का बताया यह कारण...

गेम में दोनों खिलाड़ियों ने एक-दूसरे पर बढ़त लेने की कोशिश जारी रखी और हर पल स्कोर बदलता रहा. एक बार तो 24 रैली शॉट के बाद प्वाइंट स्कोर हुआ.पहले स्कोर 17-17 पर रहा फिर स्कोर 19-19 हुआ फिर 20-20 की बराबरी पर आया. करीब एक घंटे से ज़्यादा देर तक चले मैच में आखिरी बाजी झैंग के हाथ रही. झैंग ने 22-20 से गेम जीतकर इंडिया ओपन का खिताब जीता.

बिना कोच के झैंग को मिली जीत!
झैंग के बारे में आपको बता दें कि वो बिना किसी कोच के इस टूर्नामेंट में खेल रहीं है. इतना ही नहीं वो बिना किसी प्रैक्टिस पार्टनर के इंडिया ओपन में आईं हैं. टूर्नामेंट के दौरान मीडिया से बात करते हुए झैंग ने बताया था कि उनके पास इतना पैसा नहीं है कि कोच उनके साथ हर टूर्नामेंट में जा सकें इसलिए वो बिना कोच के खेल रहीं हैं. झैंग ने ये भी बताया कि कोच उन्हें ई-मेल पर गेम प्लान बनाकर हर मैच से पहले भेजते हैं.

टिप्पणियां
VIDEO : जब पिछले साल सिंधु ने विश्व चैंपियनशिप में रजत पदक जीता था.
कहने को यह बहुत बड़ी नहीं, लेकिन फिर भी सराहनीय है कि कोच साथ न होने के बावजूद झैंग ने घरेलू पीवी सिंधु और सायना नेहवाल जैसी खिलाड़ियों को मात देकर खिताब अपनी झोली में डाल लिया. वहीं पीवी सिंधु के पास घर में सारी सुविधाएं मौजूद थीं, लेकिन इसके बावजूद अपने खिताब की रक्षा नहीं कर सकीं.

 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement