NDTV Khabar

Exclusive: नार्को टेस्ट के लिए भी तैयार, गुनहगार पाया गया तो फांसी लगा दो : नरसिंह यादव

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
Exclusive: नार्को टेस्ट के लिए भी तैयार, गुनहगार पाया गया तो फांसी लगा दो : नरसिंह यादव

नरसिंह यादव (फाइल फोटो)

खास बातें

  1. 'मैंने जिन पहलवानों को हराया हुआ है, वे आज पोडियम पर हैं'
  2. 'मैंने जीवन में कई बार डोप टेस्ट दिया है. हर बार क्लीन रहा'
  3. 'मैं बहुत दुखी हूं और अपने माथे से कलंक धोना चाहता हूं'
रियो डी जिनेरियो:

नरसिंह यादव को जिस दिन 74 किग्रा वर्ग में मैच खेलना था, उसी दिन वह रोते हुए मुकाबले को टीवी पर देख रहे थे. CAS द्वारा चार साल का प्रतिबंध लगाए जाने के बाद पहली बार नरसिंह यादव मीडिया से रू-ब-रू हुए और एनडीटीवी संवाददाता विमल मोहन से बातचीत की.

CAS ने आप पर 4 साल का प्रतिबंध लगाया है. जब आपने यह सुना तो आपकी पहली प्रतिक्रिया क्या थी?
नरसिंह :
देखिए, कल दोपहर में मेरा वजन ले लिया गया था. मैं निश्चिंत था कि मुझे लड़कर पदक जीतना है. मैंने जिन पहलवानों को हराया हुआ है, वे आज पोडियम पर हैं. मैं खुद को रोने से कैसे रोकता. मेरा पूरा करियर तबाह कर दिया गया. मैं हाथ जोड़कर प्रार्थना करता हूं कि सीबीआई जांच हो और गुनहगार सामने आए.

आपने नाडा या वाडा में अपने पक्ष में जो दलीलें दी हैं, वाडा उससे इत्तेफाक नहीं रखता. आपके पास सबूत नहीं है, ऐसे में कोई भी किसी पर इल्जाम लगा सकता है.
नरसिंह :
मैंने जीवन में कई बार डोप टेस्ट दिया है. मैं हर बार क्लीन रहा. मैं ओलंपिक से ठीक पहले ऐसी मूर्खता क्यों करता. मैं अपने नार्को टेस्ट के लिए भी तैयार हूं, चाहें तो मेरा नार्को टेस्ट ले लिया जाए और अगर मैं गलत हूं तो मुझे फांसी लगा दी जाए. लेकिन जो गुनहगार हैं, उन्हें पकड़ा जाना चाहिए.


आपने इस दौरान अपने परिवार और नजदीकी लोगों से बातचीत की होगी, उनकी क्या प्रतिक्रिया है?
नरसिंह :
उनसे क्या बात करूं, कैसे बात करूं... वे सब दुखी हैं, मुझे पता है. खुद को संभालना इस वक्त मेरे लिए मुश्किल हो रहा है. आज मैं पोडियम पर होता, लेकिन एक बंद कमरे में अपना गम दूर करने की कोशिश कर रहा हूं.

टिप्पणियां

जो प्रतिबंधित दवा आपके शरीर में पाई गई, उसको लेकर अब भी बात स्पष्ट नहीं हुई है कि वो आपके शरीर में वह कैसे आई?
नरसिंह :
इस बारे में मैं कैसे कुछ कह सकता हूं, मैंने खुद लिया नहीं और किसी को ऐसा करते हुए देखा भी नहीं है. मैं क्या बताऊं. मैं तो अपने हर टेस्ट के लिए तैयार हूं. सीबीआई की जांच और नार्को टेस्ट के लिए भी तैयार हूं. दोषी पाए जाने पर मुझे कड़ी से कड़ी सजा दी जाए. मैं और क्या कहूं.

इस वक्त आप अपने करियर के शिखर पर थे, क्या आपको लगता है कि अब आपका करियर खत्म हो गया है?
नरसिंह :
बिल्कुल! अगर अपने ही देश का कोई व्यक्ति नहीं चाहता कि अपने देश के पहलवान को मेडल नहीं मिले, तो फिर यह खेल कैसे आगे बढ़ेगा? मैं बहुत दुखी हूं और अपने माथे से कलंक धोना चाहता हूं.



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement