डोप टेस्ट में फेल रहने के कारण बीजिंग ओलिंपिक के चार पदक विजेताओं के मेडल छीने गए

डोप टेस्ट में फेल रहने के कारण बीजिंग ओलिंपिक के चार पदक विजेताओं के मेडल छीने गए

प्रतीकात्मक चित्र

लुसाने:

बीजिंग ओलिंपिक में पदक जीतने वाले चार खिलाड़ियों के डोपिंग में पॉजीटिव पाए जाने के कारण पदक छीन लिए गए हैं. इन चार खिलाड़ियों में तीन रूस के हैं. इन सभी के 2008 में लिए गए डोपिंग नमूने की फिर से जांच की गई, जिसमें इन्हें डोपिंग का दोषी पाया गया.

बुधवार को इनके पदक वापस ले लिए गए. अंतरराष्ट्रीय ओलिंपिक समिति ने बेहतर तकनीक के आधार पर कुल छह खिलाड़ियों - एक धावक और पांच भारोत्तोलकों पर प्रतिबंध लगाया है. बीजिंग और लंदन ओलिंपिक 2012 के कुल 1000 नमूनों का फिर से परीक्षण किया गया, जिनमें से 98 पॉजीटिव पाए गए. रूसी धाविका तातयाना फिरोवा से उनका 4 गुणा 400 मीटर रिले का रजत पदक छीन लिया गया.

जमैका को रिले में अब रजत, जबकि बेलारूस को कांस्य पदक मिलेगा. इनके अलावा रूसी भारोत्तोलक मरीना शैनोवा का 58 किलोग्राम का रजत और रूस की ही नादेजा इवेस्तुखिना का 75 किलोग्राम भारोत्तोलन में कांस्य पदक वापस ले लिया गया. आर्मेनिया के पुरुष भारोत्तोलक टिग्राम मार्तीरोस्यान का 69 किलोग्राम में जीता कांस्य पदक भी वापस ले लिया गया है.

(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)

 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com