NDTV Khabar

हॉकी वर्ल्‍ड लीग फाइनल : अर्जेंटीना का डिफेंस नहीं भेद सका भारत, सेमीफाइनल में हारा

पिछली बार रायपुर में खेले गए टूर्नामेंट में भी सेमीफाइनल हारने के बाद भारत ने कांस्य पदक जीता था. इस बार भी वह कांसे के तमगे के लिये ऑस्ट्रेलिया या जर्मनी से खेलेगा.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
हॉकी वर्ल्‍ड लीग फाइनल : अर्जेंटीना का डिफेंस नहीं भेद सका भारत, सेमीफाइनल में हारा

अभ्‍यास मैच में भारत ने अर्जेंटीना को हरा दिया था

भुवनेश्वर:

लगातार हो रही तेज बारिश के बावजूद आखिरी सीटी बजने तक सीटों पर जमे रहे दर्शक भी शुक्रवार को भारतीय टीम में जोश का संचार नहीं कर सके और ओलिंपिक चैम्पियन अर्जेंटीना ने मेजबान को एक गोल से हराकर हॉकी वर्ल्‍ड लीग फाइनल के खिताबी मुकाबले में जगह बना ली. इसके साथ ही भारत की पदक का रंग बेहतर करने की उम्मीदों पर भी पानी फिर गया. पिछली बार रायपुर में खेले गए टूर्नामेंट में भी सेमीफाइनल हारने के बाद भारत ने कांस्य पदक जीता था. इस बार भी वह कांसे के तमगे के लिये ऑस्ट्रेलिया या जर्मनी से खेलेगा. अर्जेंटीना को 17वें मिनट में गोंजालो पेलाट के गोल के दम पर मिली बढ़त को भारत आखिरी 43 मिनट में उतार नहीं सका. पिछले मैच में दुनिया की तीसरे नंबर की टीम बेल्जियम को सडन डेथ में हराने वाले आक्रामक तेवर आज नदारद थे. फॉरवर्ड पंक्ति में तालमेल का अभाव दिखा और गेंद पर नियंत्रण के मामले में दुनिया की नंबर एक टीम अर्जेंटीना काफी आगे रही.

मैदान पर दमखम और तकनीक की जोर आजमाइश करने वाले भारत और अर्जेंटीना के खिलाड़ियों के अलावा इस मैच में काबिले तारीफ था कलिंगा स्टेडियम पर भारी तादाद में जमा दर्शकों का जज्बा. सुबह से लगातार हो रही बूंदाबांदी मैच के समय तक तेज बारिश में बदल गई लेकिन वह दर्शकों के उत्साह पर पानी नहीं फेर सकी.


सेमीफाइनल से ठीक पहले इंग्लैंड और नीदरलैंड के बीच खेले गए क्लासीफिकेशन मैच के बाद भारत - अर्जेंटीना मैच शनिवार तक के लिये स्थगित किये जाने की अटकलें भी लगाई जा रही थी. लेकिन ऐसा हुआ नहीं और दोनों टीमें मैदान पर खेलने उतरीं तो मुश्किल हालात के बावजूद जोश में कहीं कोई कमी नहीं थी. पहले हाफ में हालांकि भारतीय टीम उस फॉर्म में नहीं दिखी जो उसने बेल्जियम के खिलाफ क्वार्टर फाइनल में दिखाया था.

दूसरी ओर अर्जेंटीना ने भारतीय सर्कल में कई हमले बोले और पांचवें मिनट में गोलकीपर आकाश चिकते ने मुस्तैदी दिखाते हुए गोल बचाया. भारत के लिये 10वें मिनट में सुनहरा मौका था जब ललित उपाध्याय से गेंद लेकर एस वी सुनील सर्कल के भीतर घुसे लेकिन उनका निशाना चूक गया. दूसरे क्वार्टर में भारतीय कप्तान मनप्रीत सिंह को पीला कार्ड देखना पड़ा. इससे पहले अर्जेंटीना ने 17वें मिनट में मैच का पहला पेनल्टी कार्नर हासिल किया और इसे गोंजालो पेलाट ने गोल में बदलकर ओलंपिक चैम्पियन को बढ़त दिला दी.

टिप्पणियां

तीसरे क्वार्टर में दोनों टीमें रक्षात्मक खेल दिखाती रहीं. भारत को 36वें मिनट में मिले एकमात्र पेनल्टी कॉर्नर को रूपिंदर पाल सिंह गोल में नहीं बदल सके. लेकिन आखिरी क्वार्टर में भारत ने कई मौके बनाये जिन्हें फिनिशिंग तक नहीं ले जा सकी. इस जीत के साथ ही अर्जेंटीना ने पिछले साल रियो ओलिंपिक में मिली हार का बदला भी चुकता कर दिया. ओलिंपिक स्वर्ण पदक की राह में भारत से वह एकमात्र मुकाबला हारी थी. इसके अलावा यहां हॉकी विश्व लीग फाइनल से पहले अभ्यास मैच में भी भारत ने उसे हराया था.

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement