NDTV Khabar

पांच साल बाद भारत को मिली डब्ल्यूटीए टूर्नामेंट की मेजबानी, नवंबर में होगा ‘मुंबई ओपन’

महाराष्ट्र राज्य लॉन टेनिस संघ (एमएसएलटीए) ने इस टूर्नामेंट की मेजबानी की जिम्मेदारी उठाई है.

2 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
पांच साल बाद भारत को मिली डब्ल्यूटीए टूर्नामेंट की मेजबानी, नवंबर में होगा ‘मुंबई ओपन’

प्रतीकात्मक तस्वीर

खास बातें

  1. इस साल नवंबर में 125,000 डॉलर की टेनिस प्रतियोगिता का आयोजन होगा
  2. मुंबई में इस टूर्नामेंट को आयोजित करने का फैसला किया गया हैं
  3. अंकिता रैना : यह हम सभी के लिये अच्छा एक्सपोजर और अनुभव होगा
नई दिल्ली: भारत पांच साल बाद अपने पहले डब्ल्यूटीए टूर्नामेंट की मेजबानी करेगा, जब मुंबई में इस साल नवंबर में 125,000 डॉलर की टेनिस प्रतियोगिता का आयोजन किया जाएगा जिससे घरेलू खिलाड़ियों को दुनिया की शीर्ष 50 धुरंधरों से प्रतिस्पर्धा करने का मौका मिलेगा. महाराष्ट्र राज्य लॉन टेनिस संघ (एमएसएलटीए) ने इस टूर्नामेंट की मेजबानी की जिम्मेदारी उठाई है. एमएसएलटीए ने हाल में भारत के एटीपी विश्व टूर टूर्नामेंट ‘चेन्नई ओपन’ की मेजबानी के अधिकार हासिल किए जिसे अब महाराष्ट्र ओपन के नाम से पुकारा जाएगा और पुणे में आयोजित होगा.
 
एमएसएलटीए के महासचिव सुंदर अय्यर ने कहा, ‘हमारी खिलाड़ी जैसे अंकिता रैना, करमन कौर थांडी, रूतुजा भोसले और अन्य को बेहतर स्तर पर खेलने का मौका मिलेगा जो रैंकिंग में ऊपर पायदान पर बढ़ने की कोशिश करेंगी. खिलाड़ियों की दिलचस्पी के लिये ही हमने मुंबई में इस टूर्नामेंट को आयोजित करने का फैसला किया.’

भारत ने अंतिम बार किसी डब्ल्यूटीए टूर्नामेंट की मेजबानी 2012 में पुणे में ‘रॉयल इंडियन ओपन’ कराकर की थी जब विश्व रैंकिंग में मौजूदा पांचवें नंबर की खिलाड़ी एलिना स्वितोलिना ने जापान की अनुभवी किमिको डेट-क्रुम को हराकर एकल खिताब जीता था. इसमें मुंबई ओपन के मुख्य ड्रा और क्वालीफायर में चार वाइल्ड कार्ड दिये जायेंगे. देश के उस समय के शीर्ष खिलाड़ियों को इन वाइल्ड कार्ड की प्रविष्टियां मिलने की संभावना है.

यह भी पढ़ें : भारतीय महिला क्रिकेट टीम के शानदार प्रदर्शन के बाद क्या शुरू होगा वीमन IPL?
 
अंकिता रैना (262) को छोड़कर भारत के सर्वश्रेष्ठ एकल खिलाड़ियों को उनकी मौजूदा रैंकिंग को देखते हुए डब्ल्यूटीए 125के स्तर के टूर्नामेंट के मुख्य ड्रा में सीधे प्रवेश नहीं मिल सकता. करमन कौर थांडी (349) और राष्ट्रीय चैम्पियन रिया भाटिया (519) रैंकिंग में अंकिता के पीछे हैं.

अय्यर ने कहा, ‘खिलाड़ियों के पास आस्ट्रेलियन ओपन से पहले कुछ अहम अंक जुटाने का मौका होगा। साथ ही चोटों से वापसी कर रही खिलाड़ियों के लिये टूर्नामेंट उनका उद्देश्य पूरा करेगा. इसमें 11 से 50 रैंकिंग वाली खिलाड़ी भाग लेंगी और हमारी लड़कियों के लिये यह एक्सपोजर मिलना अच्छा है.’ अभी तक भारत ने केवल दो 15,000 डॉलर की इनामी राशि के टूर्नामेंट एक ग्वालियर में और एक औरंगाबाद में की मेजबानी की है.
 
अंकिता रैना ने प्राग से कहा, ‘मैं घरेलू सरजमीं पर होने वाले इस डब्ल्यूटीए टूर्नामेंट के लिये तैयार हूं. यह हम सभी के लिये अच्छा एक्सपोजर और अनुभव होगा क्योंकि एक डब्ल्यूटीए टूर्नामेंट में प्रवेश करना काफी कठिन होता है. मैं एआईटीए से ऐसे टूर्नामेंट की और मेजबानी का आग्रह करूंगी.’

थांडी ने कहा, ‘महिला टेनिस के लिये यह अच्छा है कि भारत में इस तरह के टूर्नामेंट आयोजित हो रहे हैं.’ एमएसएलटीए ने तीन और 25,000 डॉलर के टूर्नामेंट की मेजबानी करेगा जो पुणे और नवी मुंबई में होंगे जबकि एक 15,000 डॉलर का टूर्नामेंट सोलापुर में आयोजित होगा. 50,000 डॉलर के चैलेंजर के साथ ये सभी महिलाओं के टूर्नामेंट पुणे में नवंबर में आयोजित होंगे जिससे एमएसएलटीए इन प्रतियोगिताओं का आयोजन करीब 300,000 डॉलर के करीब खर्चा करेगा.


VIDEO : भारतीय महिला टीम ने वर्ल्डकप का फाइनल जरूर हारा लेकिन... 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement