विश्व चैंपियनशिप में भारतीय मुक्केबाजों को कठिन ड्रॉ

शिवा थापा और विकास कृष्णन को पहले दौर में बाई और वरीयता मिली है, लेकिन भारतीय मुक्केबाजों की राह 19वीं विश्व चैंपियनशिप में आसान नहीं होगी. उन्हें कठिन ड्रॉ मिले हैं.

विश्व चैंपियनशिप में भारतीय मुक्केबाजों को कठिन ड्रॉ

भारतीय मुक्केबाज शिवा थापा. (फाइल फोटो)

खास बातें

  • शिवा थापा और विकास कृष्णन को पहले दौर में बाई और वरीयता मिली है
  • विकास को तीसरी जबकि शिवा को पांचवीं वरीयता दी गई है
  • छह साल पहले विश्व चैंपियनशिप में कांस्य पदक जीत चुके हैं विकास
हैम्बर्ग:

शिवा थापा और विकास कृष्णन को पहले दौर में बाई और वरीयता मिली है, लेकिन भारतीय मुक्केबाजों की राह 19वीं विश्व चैंपियनशिप में आसान नहीं होगी. उन्हें कठिन ड्रॉ मिले हैं. विकास को मिडिलवेट (75 किलो) वर्ग में तीसरी वरीयता मिली है वहीं, शिवा को लाइटवेट (60 किलो) में पांचवीं वरीयता दी गई है. सुमीत सांगवान (91 किलो) को छठी वरीयता मिली है. ये सभी प्री क्वार्टर फाइनल में रिंग में उतरेंगे. आठों भारतीय मुक्केबाजों के लिए हालांकि पदक की राह आसान नहीं होगी. 

यह भी पढ़ें : विश्‍व बॉक्सिंग चैंपियनशिप : शिवा थापा और विकास कृष्‍णन पर टिकीं भारत की पदक की उम्‍मीदें

छह साल पहले कांस्य जीत चुके हैं विकास
छह साल पहले कांस्य जीत चुके विकास को 27 अगस्त को अंतिम-16 में कीनिया के जान कयालो और इंग्लैंड के बेंजामिन विटेकर के बीच होने वाले मुकाबले के विजेता से खेलना होगा. वहीं चौथी वरीयता प्राप्त अजरबैजान के कामरान शखसुवारली अगले दौर में उनके सामने हो सकते हैं जो ओलंपिक कांस्य पदक विजेता और यूरोपीय रजत पदक विजेता हैं. दूसरी ओर शिवा का सामना 28 अगस्त को कजाखस्तान के एडिलेट कुरमेतोव और जार्जिया के ओतर इरानोस्यान के बीच होने वाले मुकाबले के विजेता से होगा. इसे जीतने पर उन्हें चौथी वरीयता प्राप्त एलनुर अबुदुरइमोव से खेलना पड़ सकता है. शिवा ने 2015 में विश्व चैम्पियनशिप में कांस्य जीता था.

इनपुट : भाषा

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com