NDTV Khabar

तीरंदाजी : भारतीय दल ने किया कमाल, शंघाई वर्ल्ड कप में गोल्ड पर लगा दिया निशाना...

भारत ने फ़ाइनल में कोलंबिया को हराकर वर्ल्ड कप कंपाउंड तीरंदाज़ी का गोल मेडल अपने नाम कर लिया है. भारत ने कोलंबिया के ख़िलाफ़ 5 अंकों के अंतर से जीत हासिल की.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
तीरंदाजी : भारतीय दल ने किया कमाल, शंघाई वर्ल्ड कप में गोल्ड पर लगा दिया निशाना...

टीम में शामिल अभिषेक वर्मा ने 2015 में पोलैंड में वर्ल्ड कप का निजी गोल्ड मेडल जीता था (फोटो : AFP)

खास बातें

  1. अभिषेक वर्मा, चिन्नाराजू श्रीथर और अमनजीत सिंह टीम में रहे शामिल
  2. अभिषेक वर्मा इंचियन एशियाई गेम्स में गोल्ड मेडल जीत चुके हैं
  3. दूसरे वर्ल्ड कप के लिए भारतीय दल से अब उम्मीदें बढ़ गई हैं
नई दिल्ली: भारत ने फ़ाइनल में कोलंबिया को हराकर वर्ल्ड कप कंपाउंड तीरंदाज़ी का गोल्ड मेडल अपने नाम कर लिया है. भारत ने कोलंबिया के ख़िलाफ़ 5 अंकों के अंतर से जीत हासिल की. भारत के अभिषेक वर्मा, अमनजीत सिंह और चिन्नाराजू श्रीथर की तिकड़ी ने रोमांचक फ़ाइनल में अपना संयम बनाए रखा और कोलंबिया को शुरुआत से ही दबाव में रखा. कोलंबिया ने 221 अंक हासिल किए जबकि भारत ने 226 अंक.

वर्ल्ड कप में भारतीय टीम की ये ऐतिहासिक जीत है. वर्ल्ड कप में भारतीय कंपाउंड टीम ने पहली बार स्वर्णिम सफ़लता हासिल की है. फ़ाइनल में पहुंचने से पहले भारत ने अमेरिका,  वियतनाम और वर्ल्ड चैंपियन ईरान जैसी टीम को शिकस्त दी. इस जीत के बाद भारतीय टीम के हौसले बुलंद हो गए हैं और तीरंदाज़ी के जानकार उनसे अभी से ही दूसरे वर्ल्ड कप (जून में तुर्की) में बड़ी उम्मीदें करने लगे हैं.

इंचियन एशियाई गेम्स में गोल्ड मेडल जीतने वाले अभिषेक वर्मा ने इस टूर्नामेंट में भी शानदार प्रदर्शन किया. उनके भारतीय कोच लोकेश कुमार ने उनकी जीत के फ़ौरन बाद उनसे बात की, तो उन्होंने इस बात की खुशी जताई कि दो साल पहले 2015 में उन्होंने पहली बार पोलैंड में वर्ल्ड कप का निजी गोल्ड मेडल जीता था और अब टीम के ऐतिहासिक गोल्ड में भी उनका नाम शामिल है.

अभिषेक ने बताया कि इस बार फ़ाइनल में उनकी टीम कंट्रोल में थी. अभिषेक ये भी कहते हैं कि अमेरिका जैसी मज़बूत टीम को हराना बड़ी चुनौती थी. वो कहते हैं कि इस जीत की वजह से आने वाले टूर्नामेंट में भारतीय टीम और बेहतर प्रदर्शन कर सकती है.

अभिषेक के कोच लोकेश चंद कहते हैं, "इस बार टीम कॉम्बिनेशन बहुत अच्छा था. दो सीनियर खिलाड़ी- अभिषेक और चिन्नाराजू श्रीथर के साथ एकदम नए खिलाड़ी पंजाब के अमनजीत सिंह के बीच अच्छा तालमेल बन गया जिसका फ़ायदा उन्हें पूरे टूर्नामेंट में हुआ. वो मानते हैं कि नए खिलाड़ियों का फ़ायदा टीम को लंबे समय तक मिलता रह सकता है."


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement

 
 

Advertisement