यह ख़बर 02 अगस्त, 2014 को प्रकाशित हुई थी

कॉमनवेल्थ खेलों में भारतीय पहलवानों ने खूब बिखेरी चमक

कॉमनवेल्थ खेलों में भारतीय पहलवानों ने खूब बिखेरी चमक

ग्लासगो:

ओलिंपिक पदक विजेताओं की कतार में खड़े ये सितारे भारतीय खेलों के नए पोस्टर प्लेयर्स बन सकते हैं। इनमें भरपूर दमखम है और ग्लासगो कॉमनवेल्थ खेलों में इन्होंने अपनी काबिलियत साबित कर दी है।

बड़ी बात यह है कि इनके दम पर भारतीय पहलवानों ने पांच स्वर्ण के साथ 14 में से 13 पदक जीत लिए और दूसरे सभी खेलों से आगे निकल गए। भारतीय कुश्ती के लिए यह एक ऐतिहासिक मौका है।

सुशील कुमार इस तुलना से बचना चाहते हैं, लेकिन दूसरे पहलवान बेहद खुश हैं। पहलवान योगेश्वर दत्त कहते हैं कि यह काफी खुशी की बात है। सुशील कुमार कहते हैं कि कई खिलाड़ियों  ने अच्छा किया है...दूसरे खेल अच्छा कर रहे हैं...

खास बात यह भी है कि दूसरे कई खिलाड़ियों की तरह महिला पहलवान पुरुषों को कड़ी टक्कर देती नजर आईं। भारतीय टीम ने पांच स्वर्ण के साथ कुल 13 पदक जीते, इनमें महिलाओं के हाथ दो स्वर्ण के साथ कुल छह पदक लगे, जबकि पुरुष पहलवानों ने तीन स्वर्ण के साथ कुल सात पदक जीते।

सितंबर में होने वाले एशियन गेम्स में इन पहलवानों को और कड़ा इम्तहान देना होगा, लेकिन फिलहाल इतना जरूर लगता है कि भारतीय कुश्ती को बीजिंग ओलिंपिक में सुशील के पदक के बाद सही दिशा मिल गई है।

Newsbeep

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com