NDTV Khabar

रियो ओलिंपिक : माइकल फेल्प्स को हराने वाले जोसेफ स्कूलिंग का नायक की तरह स्वागत

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
रियो ओलिंपिक : माइकल फेल्प्स को हराने वाले जोसेफ स्कूलिंग का नायक की तरह स्वागत

जीत के बाद पूल में फेल्प्स के साथ स्कूलिंग

सिंगापुर:

माइकल फेल्प्स को हराकर पुरुष 100 मीटर बटरफ्लाई का स्वर्ण पदक जीतने वाले सिंगापुर के तैराक जोसफ स्कूलिंग का सोमवार को देश लौटने पर नायक की तरफ स्वागत किया गया.

21 साल के खिलाड़ी ने अपनी उपलब्धि से देश को उसका अब तक का पहला ओलिंपिक स्वर्ण पदक दिलाया. स्कूलिंग के सोमवार सुबह छह बजकर 20 मिनट (स्थानीय समयानुसार) पर सिंगापुर के चांगी हवाईअड्डे के यात्री आगमन कक्ष में पहुंचते ही एक प्रशंसक जोर से चिल्लाया ‘‘जोसफ, मुझे तुमसे प्यार है’’, वहीं दूसरे प्रशंसक ‘‘स्कूलिंग-स्कूलिंग’’ और ‘‘सिंगापुर-सिंगापुर’’ चिल्ला रहे थे. इस दौरान स्कूलिंग ने गले में अपना स्वर्ण पदक लटकाया हुआ था.

21 साल के एशियाई चैंपियन स्कूलिंग ने रियो में फेल्प्स को लगातार चौथा पीला तमगा नहीं जीतने दिया. उसने 50.39 सेकेंड के ओलिंपिक रिकॉर्ड के साथ जीत दर्ज की. फेल्प्स, हंगरी के लाज्लो सेक और दक्षिण अफ्रीका के चोड ले क्लोस 51.14 सेकंड का समय निकालकर दूसरे स्थान पर रहे.

फेल्प्स अगर यह मुकाबला जीत जाते तो यह उनका 14वां ओलंपिक व्यक्तिगत खिताब होता. रियो ओलिंपिक में अब तक वह चार स्वर्ण (4X100 मीटर फ्रीस्टाइल, 4X200 मीटर फ्री रिले, 200 मीटर बटरफ्लाय और 200 मीटर व्यक्तिगत मेडले) पदक जीत चुके हैं. अभी उन्हें 4X100 मीटर मेडले रिले में भाग लेना है.


कूलिंग ने इस ऐतिहासिक जीत के बाद कहा, ‘‘अभी मुझे जीत का खुमार नहीं चढ़ा है. मेरे भीतर जज्बात का तूफान उमड़ रहा है. मुझे यकीन ही नहीं हो रहा कि मैंने सच में जीत लिया है या अभी मैं तैयारी ही कर रहा हूं.’’

टिप्पणियां

इस स्पर्धा का रजत फेल्प्स के अलावा दक्षिण अफ्रीका के चाड ले क्लोस और हंगरी के लास्लो चेस्क ने जीता. फेल्प्स ने अपने करियर में तीसरा रजत जीता है.

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement