NDTV Khabar

लगातार दो खिताब जीत चुके शटलर श्रीकांत ने कहा, हमारे पास विश्व चैंपियनशिप में पदक जीतने का अच्छा मौका

पुरुष बैडमिंटन में भारत के लिए पिछले कुछ सप्ताह शानदार रहे हैं. देश को गोपीचंद के शिष्य किदाम्बी श्रीकांत ने जहां लगातार दो खिताब दिलाए हैं, वहीं दो अन्य खिलाड़ियों ने भी अच्छा खेल दिखाया है.

143 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
लगातार दो खिताब जीत चुके शटलर श्रीकांत ने कहा, हमारे पास विश्व चैंपियनशिप में पदक जीतने का अच्छा मौका

किदाम्बि श्रीकांत ने इंडोनेशिया और ऑस्ट्रेलियन ओपन जीता है (फाइल फोटो)

नई दिल्ली: पुरुष बैडमिंटन में भारत के लिए पिछले कुछ सप्ताह शानदार रहे हैं. देश को गोपीचंद के शिष्य किदाम्बी श्रीकांत ने जहां लगातार दो खिताब दिलाए हैं, वहीं दो अन्य खिलाड़ियों ने भी अच्छा खेल दिखाया है. श्रीकांत ने पहले इंडोनेशिया ओपन जीता और फिर ऑस्ट्रेलिया ओपन में भी धमाकेदार प्रदर्शन करते हुए दिग्गज खिलाड़ियों को परास्त करके खिताब पर कब्जा कर लिया. अपने प्रदर्शन से उत्साहित श्रीकांत का मानना है कि भारतीय बैडमिंटन खिलाड़ियों के पास अगले महीने होने वाली विश्व चैंपियनशिप में पदक जीतने का अच्छा मौका है.

श्रीकांत के अलावा बी साई प्रणीत और अजय जयराम ने पुरुष एकल वर्ग में बीडब्ल्यूएफ विश्व चैंपियनशिप के लिए क्वालिफाई किया है जिसका आयोजन ग्लास्गो में 21 से 27 अगस्त तक किया जाएगा.

खेल मंत्री विजय गोयल द्वारा सम्मानित किए जाने से इतर श्रीकांत ने संवाददाताओं से कहा, 'मुझे लगता है कि हम सभी अच्छा खेल रहे हैं. मैं यह नहीं कह सकता कि हम निश्चित तौर पर पदक जीतेंगे. निश्चित तौर पर हमारे पास मौका है लेकिन हमें उस दिन और प्रत्येक मैच में अपना शत प्रतिशत देना होगा.

अच्छी बात यह है कि किदाम्बी को विरोधी खिलाड़ियों की तैयारी और ताकत का अंदाजा है और वह भारतीय खिलाड़ियों को इसके प्रति सचेत भी कर रहे हैं. उनके अनुसार विश्व चैंपियनशिप जीतने के लिए टीम के साथियों को लगातार अच्छा खेलना होगा, क्योंकि मुकाबले बेहद कड़े होंगे.

श्रीकांत ने कहा, 'हमें लगातार अच्छा खेलना होगा, क्योंकि यह इतना बड़ा टूर्नामेंट है और सभी इसके लिए कड़ी तैयारी करते हैं. मुझे लगता है कि शीर्ष 30-35 में शामिल सभी खिलाड़ी अच्छा प्रदर्शन कर रहे हैं. अगर आप देखें तो इंडोनेशिया ओपन से पहले एचएस प्रणय की रैंकिंग 29 थी और उसने किस तरह चेन लोंग और ली चोंग वेई को लगातार मैचों में हराया, इसलिए शीर्ष 35 में शामिल सभी अच्छा प्रदर्शन कर रहे हैं.'

लगातार तीन सुपर सीरीज चैंपियनशिप के फाइनल में पहुंचे श्रीकांत का मानना है कि प्रतिष्ठित विश्व चैंपियनशिप से पूर्व वह सही समय पर अपने खेल के शीर्ष पर आ रहे हैं. गुंटूर के इस 24 साल के खिलाड़ी ने कहा कि रियो ओलिंपिक के बाद चोटिल होने के कारण बाहर रहने के बावजूद उन्होंने कभी अपनी क्षमता पर विश्वास नहीं छोड़ा और इससे सफल वापसी करने में मदद मिली.
(इनपुट एजेंसियों से भी)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement