यह ख़बर 05 दिसंबर, 2012 को प्रकाशित हुई थी

आईओए ने निलम्बन के लिए रणधीर को ठहराया जिम्मेदार

आईओए ने निलम्बन के लिए रणधीर को ठहराया जिम्मेदार

खास बातें

  • अंतरराष्ट्रीय ओलिम्पिक परिषद (आईओसी) द्वारा निलम्बित किए जाने पर भारतीय ओलिम्पिक संघ (आईओए) ने इसके लिए निवर्तमान महासचिव रणधीर सिंह को दोषी ठहराया।
नई दिल्ली:

अंतरराष्ट्रीय ओलिम्पिक परिषद (आईओसी) द्वारा निलम्बित किए जाने पर भारतीय ओलिम्पिक संघ (आईओए) ने इसके लिए निवर्तमान महासचिव रणधीर सिंह को दोषी ठहराया। आईओए ने निलम्बन के बावजूद चुनाव प्रक्रिया जारी रखने की घोषणा की है।

आईओए ने बुधवार को वार्षिक आम सभा में एक प्रस्ताव पारित कर रणधीर सिंह की गतिविधियों के खिलाफ निंदा प्रस्ताव पारित किया। सभा का मानना था कि आईओसी द्वारा निलम्बन की कार्रवाई के पीछे रणधीर सिंह थे।

यद्यपि आईओए के अध्यक्ष पद से 25 नवम्बर को अपनी दावेदारी वापस लेने वाले रणधीर सिंह बैठक में उपस्थित नहीं थे।

आईओए के कार्यकारी अध्यक्ष विजय कुमार मल्होत्रा ने कहा था कि उन्हें आशा है कि वह आईओसी एवं सरकार के साथ समाधान तलाश लेंगे।

मल्होत्रा ने कहा, "आज बैठक में 147 सदस्य उपस्थित थे। हमने चुनाव प्रक्रिया जारी रखने का निर्णय लिया। हम आईओसी के चार्टर का पालन कर रहे हैं और किसी भी नामांकन को रद्द नहीं किया गया है। हमें आशा है कि हम आईओसी के साथ मामला सुलझा लेंगे।"

कार्यकारी अध्यक्ष ने कहा कि महासचिव ललित भनोट को आईओए का पक्ष आईओसी के सामने रखने के लिए कहा गया है।

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


आईओसी ने मंगलवार को चुनाव प्रक्रिया में सरकारी हस्तक्षेप के कारण भारतीय ओलिम्पिक संघ को निलम्बित कर दिया था।