NDTV Khabar

मिशन रियो : अभिनव बिंद्रा, गगन नारंग, जीतू राय, अपूर्वी लगाएंगे ओलिंपिक में मेडल पर 'निशाना'!

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
मिशन रियो : अभिनव बिंद्रा, गगन नारंग, जीतू राय, अपूर्वी लगाएंगे ओलिंपिक में मेडल पर 'निशाना'!

खास बातें

  1. अभिनव बिंद्रा ने बीजिंग ओलिंपिक में जीता था गोल्ड मेडल
  2. गगन नारंग ने लंदन ओलिंपिक, 2012 में जीता था ब्रॉन्ज
  3. बिंद्रा लंदन ओलिंपिक में 10 मीटर की स्पर्धा से बाहर हो गए थे
नई दिल्ली:

रियों ओलिंपिक के आगाज में अब 4 दिन ही रह गए हैं. हालांकि ओलिंपिक में हमारा प्रदर्शन कभी भी ज्यादा उपलब्धियों वाला नहीं रहा है, लेकिन हमने अपनी मेडल टैली में पिछली कुछ बार से इजाफा किया है. जहां अटलांटा-1996, सिडनी-2000 और एथेन्स-2004 ओलिंपिक खेलों में हमें एक-एक मेडल से ही संतोष करना पड़ा था, वहीं बीजिंग-2008 में 3 मेडल मिले और यह संख्या लंदन-2012 में छह तक पहुंच गई. इस बार भारत ने अब तक का सबसे बड़ा 119 सदस्यीय दल भेजा है, जिसमें कई ऐसे खिलाड़ी हैं, जो देश को 'स्वर्णिम' सफलता दिला सकते हैं. वैसे तो हम इनसे गोल्ड की उम्मीद कर सकते हैं, पर इतना तो तय है कि ये कोई न कोई मेडल तो हमारी झोली में डालेंगे ही. हम आपको भारतीय दल के ऐसे ही खिलाड़ियों से रूबरू कराने जा रहे हैं. इसी कड़ी में आज बात शूटिंग के सितारों की... जिन्होंने कई मौकों पर अचूक निशाने से हमें गौरवान्वित किया है-

अभिनव बिंद्रा : कर चुके हैं 'गोल्डन' कमाल
बिंद्रा रियो के ओपनिंग सेरोमनी में तिरंगा लेकर सबसे आगे चलेंगे. वह भारत के 'गोल्डन ब्वॉय' हैं. वह व्यक्तिगत स्पर्धा में ओलिंपिक गोल्ड (बीजिंग-2008) जीतने वाले एकमात्र भारतीय होने का गौरव रखते हैं. इस बार भी उन्होंने अपने इरादे जाहिर कर दिए हैं. हालांकि बिंद्रा अपने स्वभाव के उलट पिछले माह सोशल मीडिया में काफी सक्रिय रहे, लेकिन 21 जुलाई के बाद से उन्होंने इससे दूरी बना ली है और अपना सारा ध्यान 'लक्ष्य' पर केंद्रित कर रहे हैं. बिंद्रा 10 मीटर एयर रायफल कैटेगरी में दावेदारी पेश करेंगे.
 


देहरादून में पैदा हुए और चंडीगढ़ में पले-बढ़े अभिनव बिंद्रा का जन्म 28 सितंबर, 1982 को हुआ था.  बिंद्रा को 2001 में खेलों का सर्वोच्च अवॉर्ड राजीव गांधी खेल रत्न भी मिल चुका है. उन्हें 2000 में अर्जुन अवॉर्ड और 2009 में पद्मभूषण से भी सम्मानित किया जा चुका है. 2002 के मैनचेस्टर कॉमनवेल्थ गेम्स में अभिनव ने युगल वर्ग में गोल्ड मेडल जीता, वहीं व्यक्तिगत तौर पर सिल्वर मेडल भी अपने नाम किया. 2006 में मेलबर्न में हुए कॉमनवेल्थ गेम्स में भी उन्होंने युगल वर्ग में गोल्ड जीता, जबकि व्यक्तिगत स्पर्धा में एक बार फिर सिल्वर हासिल किया. दिल्ली में हुए कॉमनवेल्थ गेम्स में उन्हें एक बार फिर युगल में गोल्ड, तो व्यक्तिगत स्पर्धा में सिल्वर मिला. ग्वांगझू में हुए एशियन गेम्स में बिंद्रा ने सिल्वर मेडल जीता था. हालांकि 2012 के लंदन ओलिंपिक में बिंद्रा कुछ खास नहीं कर पाए और 10 मीटर राइफल शूटिंग मुकाबले से बाहर हो गए.

गगन नारंग : तीन स्पर्धाओं में दिखाएंगे दम, दिल्ली में जीते थे 4 गोल्ड मेडल
नांरग रियो गेम्स में तीन अलग-अलग स्पर्धाओं में देश का प्रतिनिधित्व करेंगे. 10 मीटर एयर रायफल, 50 मीटर रायफल प्रोन और 50 मीटर रायफल थ्री-पोजिशन्स [स्टैंडिंग (खड़े होकर), नीलिंग (घुटने के बल बैठकर), और प्रोन (आर्मी जवानों जैसे लेटकर)].

टिप्पणियां

नारंग अब तक तीन ओलिंपिक में भाग ले चुके हैं. पहली बार वह एथेन्स ओलिंपिक, 2004 में गए थे, लेकिन कुछ नहीं कर पाए. नारंग को अपने तीसरे ओलिंपिक में सफलता मिली. यह थे, लंदन ओलिंपिक गेम्स 2012. नारंग ने इसमें देश को 10 मीटर एयर रायफल स्पर्धा में ब्रॉन्ज मेडल दिलाकर प्रसिद्धि पाई थी. गौरतलब है कि इसी ओलिंपिक में अभिनव बिंद्रा बाहर हो गए थे और देश निराश था, क्योंकि बिद्रा से अधिक उम्मीद थी.
 


नई दिल्ली में आयोजित कॉमनवेल्थ गेम्स, 2010 में देश को 4 गोल्ड मेडल दिलाने वाले बिंद्रा को भी खेलों का सर्वोच्च अवॉर्ड राजीव गांधी खेल रत्न, 2010 मिला है. इसके साथ ही उन्हें पद्मश्री, 2011 से भी नवाजा जा चुका है. रियो ओलिंपिक में गगन 50 मीटर रायफल वर्ग में दावेदारी पेश करेंगे. नारंग ने एक पुस्तक 'माय ओलिंपिक जर्नी' भी लिखी है.

जीतू राय : 50 मीटर पिस्टल में खास महारत
ISSF वर्ल्ड कप, 2014 में 10 मीटर एयर पिस्टल इवेंट में गोल्ड मेडल और 50 मीटर में सिल्वर जीतने वाले जीतू कॉमनवेल्थ गेम्स और एशियन गेम्स में गोल्ड जीत चुके हैं। वह 10 मीटर पिस्टल में वह वर्ल्ड में नंबर वन भी रह चुके हैं. जीतू राय ने थाईलैंड की राजधानी बैंकॉक में खेले गए वर्ल्ड कप में 50 मीटर पिस्टल इवेंट में गोल्ड मेडल जीता था. उन्होंने ओलिंपिक चैंपियन चीन के पेंग वेई को पछाड़कर यह उपलब्धि हासिल की थी, इससे उनसे रियो में मेडल जीतने की उम्मीद बढ़ गई है. वह रियो ओलिंपिक में राय 50 मीटर पिस्टल इवेंट में भाग लेंगे। यह उनका पहला ओलिंपिक है.
 


अपूर्वी चंदेला : ओलिंपिक विजेता का तोड़ चुकी हैं रिकॉर्ड
ग्लास्गो कॉमनवेल्थ गेम्स में गोल्ड जीतने वाली अपूर्वी चंदेला से महिला वर्ग में शानदार प्रदर्शन की उम्मीद की जा रही है. वह 10 मी. एयर राइफल में देश का प्रतिनिधित्व करेंगी. अपूर्वी ने जनवरी, 2016 में स्वीडिश कप ग्रांप्री में महिलाओं की 10 मीटर एयर राइफल में वर्ल्‍ड रिकार्ड के साथ गोल्‍ड मेडल जीता था। उन्होंने चीन की ओलिंपिक स्वर्ण पदक विजेता यी सिलिंग के 211 अंक के रिकार्ड को तोड़ा था। उन्होंने पिछले साल अप्रैल में कोरिया में आईएसएसएफ वर्ल्‍डकप, 2015 में कांस्य पदक जीतकर ओलिंपिक कोटा हासिल किया था।
 

अभिनव बिंद्रा को बीजिंग ओलिंपिक में मिली सफलता ने चंदेला को खासा प्रेरित किया. जब वह 15 साल की थीं, उसी समय उन्होंने 2008 में अभिनव बिंद्रा का एक इंटरव्यू देखा था. यह उनके बीजिंग ओलंपिक में गोल्ड जीतने के बाद आया था. चंदेला ने मीडिया से कहा था कि उस इंटरव्यू ने उन्हें शूटिंग के प्रति प्रेरित किया था.


NDTV.in पर विधानसभा चुनाव 2019 (Assembly Elections 2019) के तहत हरियाणा (Haryana) एवं महाराष्ट्र (Maharashtra) में होने जा रहे चुनाव से जुड़ी ताज़ातरीन ख़बरें (Election News in Hindi), LIVE TV कवरेज, वीडियो, फोटो गैलरी तथा अन्य हिन्दी अपडेट (Hindi News) हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement