NDTV Khabar

टेनिस : चोट के बाद लौटे रोजर फेडरर का धमाल जारी, राफेल नडाल को हराकर जीता मियामी ओपन

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
टेनिस : चोट के बाद लौटे रोजर फेडरर का धमाल जारी, राफेल नडाल को हराकर जीता मियामी ओपन

रोजर फेडरर ने राफेल नडाल को हराकर तीसरी बार मियामी ओपन जीता है (फाइल फोटो)

खास बातें

  1. फेडरर ने नडाल को ऑस्ट्रेलियन ओपन में भी हराया था
  2. नडाल मियामी ओपन के फाइनल में 5 बार हारे हैं
  3. फेडरर ने इस साल इंडियन वेल्स खिताब भी जीता है
मियामी: स्विट्जरलैंड के दिग्गज टेनिस खिलाड़ी रोजर फेडरर का शानदार प्रदर्शन जारी है. 35 साल के फेडरर ने चोट के बाद जब से वापसी की है, उनका प्रदर्शन निखरता जा रहा है. उन्होंने मियामी ओपन के फाइनल में स्पेन के राफेल नडाल को पुरुष एकल वर्ग में मात देते हुए तीसरी बार यह खिताब जीत लिया. नडाल ने पांचवीं बार मियामी मास्टर्स का फाइनल खेला, लेकिन खिताब जीतने में अब तक सफल नहीं हो पाए हैं. वैसे दोनों दिग्गजों के बीच 2004 से अब तक खेले गए मैचों में राफेल नडाल ने 23 मैच जीते और 14 हारे हैं, लेकिन हार्डकोर्ट पर फेडरर का रिकॉर्ड 10-9 का रहा है.

छह महीने चोटिल रहने के बाद वापसी करने वाले फेडरर ने इस साल ऑस्ट्रेलियाई ओपन और इंडियन वेल्स खिताब भी जीता है. हालांकि अब वह फ्रेंच ओपन से पहले ब्रेक पर रहेंगे.

फाइनल मुकाबले में रोजर फेडरर ने राफेल नडाल को सीधे सेटों में 6-3, 6-4 से हराया. इससे पहले इन दोनों के बीच साल के पहले ग्रैंडस्लैम ऑस्ट्रेलियन ओपन के फाइनल में भी मुकाबला हुआ था. उसमें भी फेडरर ने उनको मात देते हुए अपना 18वां ग्रैंडस्लैम खिताब जीता था.

नडाल के पास पहले सेट में फेडरर की सर्विस तोड़ने के तीन मौके थे, लेकिन वह इस काम को पूरा नहीं कर पाए. इसके उलट फेडरर ने नडाल की सर्विस को आठ बार तोड़ा और पहले सेट में 5-3 से बढ़त लेते हुए अंतिम गेम जीत सेट अपने नाम किया.

दूसरे सेट के सातवें गेम में फेडरर के पास एडवांटेज था, जिसे उन्होंने अपने पक्ष में किया और फिर 5-4 से बढ़त ले ली. इसके बाद नडाल वापसी नहीं कर पाए और मियामी ओपन में अपना पांचवां फाइनल हार गए. इससे पहले वह 2005, 2008, 2011, 2014 में फाइनल में हार चुके हैं. फेडरर ने 30 विनर्स लगाए, जिसमें से 18 पहले सेट में थे.

खास बात यह कि फेडरर ने इन सभी टूर्नामेंटों के फाइनल में नडाल को हराया है. दोनों के बीच अब तक हुए चारों मुकाबले फेडरर जीत चुके हैं. फेडरर ने जीत के बाद कहा, ‘यह सत्र बेहतरीन रहा. मैं 24 साल का नहीं हूं लिहाजा हालात बदल गए हैं. मैं फ्रेंच ओपन छोड़कर क्लेकोर्ट पर कोई टूर्नामेंट नहीं खेलूंगा.’

समाचार एजेंसी एफे ने फेडरर के हवाले से लिखा है, "मैं एटीपी रैंकिंग में आगे बढ़ रहा हूं. मैं बस स्वस्थ रहना चाहता हूं."

चौथी विश्व वरीयता प्राप्त फेडरर ने कहा, "जब मैं स्वस्थय रहता हूं तब मैं अच्छा महसूस करता हूं. तब मैं इस तरह की टेनिस खेल सकता हूं, इसलिए मैं आराम भी कर रहा हूं. मेरा ध्यान रोलां गारो और अन्य बड़े टूर्नामेंटों पर है, जो घास के कोर्ट पर या हार्ड कोर्ट पर खेले जाते हैं."

टिप्पणियां
फेडरर ने नडाल के खेल के बारे में कहा, "वह अच्छा प्रदर्शन कर रहे थे. वह सबकुछ सही कर रहे थे. जब स्कोर 3-3 था तब अगर भाग्य ने उनका साथ दिया होता और मैं थोड़ी भी गलती करता तो परिणाम बहुत जल्दी बदल सकता था. पहला सेट काफी रोचक था."

 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement