Khabar logo, NDTV Khabar, NDTV India

सैफ कप फाइनल : भारत ने अफगानिस्तान को 2-1 से हराकर खिताब पर किया कब्जा

ईमेल करें
टिप्पणियां
सैफ कप फाइनल : भारत ने अफगानिस्तान को 2-1 से हराकर खिताब पर किया कब्जा

सुनील छेत्री ने भारत के लिए विजयी गोल दागा (पीटीआई फोटो)

तिरुवनंतपुरम: कप्तान सुनील छेत्री के अतिरिक्त समय में किए गए गोल की बदौलत भारत ने रविवार को पिछले चैंपियन अफगानिस्तान को 2-1 से हराकर सातवीं बार दक्षिण एशियाई फुटबॉल फेडरेशन (सैफ) कप जीत लिया।

भारत 2013 में काठमांडू में खेले गए टूर्नामेंट में अफगानिस्तान से 0-2 से हार गया था, लेकिन रविवार को फाइनल में उसने बेहतर खेल दिखाया और अफगानिस्तान को बैकफुट पर रखने में कोई कसर नहीं छोड़ी। भारत ने पहले एक गोल से पिछड़ने के बाद वापसी की और बाद में अतिरिक्त समय में विजयी गोल दागा। स्टीफन कान्सटेनटाइन की कोचिंग वाली भारतीय टीम बड़े अंतर से जीत दर्ज कर सकती थी, लेकिन दो अवसरों पर उसे गोल से वंचित किया गया। आखिर में हालांकि भारत इन दोनों टीमों के बीच सैफ कप में लगातार तीसरे फाइनल में विजेता रहा।

भारत ने इससे पहले 1993, 1997, 1999, 2005, 2009 और 2011 में खिताब जीता था। भारत की तरफ से जेजे लालपुखुलवा ने 72वें मिनट और सुनील छेत्री ने 101वें मिनट में गोल किया। जुबैर आमिरी ने 69वें मिनट में गोल करके अफगानिस्तान को शुरुआती बढ़त दिलाई थी। विश्व में 166वें नंबर के भारत की अफगानिस्तान (150वें नंबर) पर यह जीत कान्सटेनटाइन के पिछले साल के शुरू में दूसरी बार कोच पद संभालने के बाद पहली खिताबी जीत है।

सैफ कप में दसवीं बार फाइनल में खेल रहे भारत ने इस तरह से क्षेत्रीय टूर्नामेंट में फिर से अपनी बादशाहत कायम की। इससे उसका फीफा रैकिंग में भी आगे बढ़ना तय है। अफगानिस्तान विदेशों में बसे अपने 15 खिलाड़ियों के साथ टूर्नामेंट में उतरा था और आखिरी बार सैफ कप में खेल रही इस टीम का लक्ष्य खिताब जीतना था। इसके बाद अफगानिस्तान अब मध्य एशिया महासंघ से जुड़ जाएगा। भारत ने सेमीफाइनल में मालदीव के खिलाफ 3-2 से जीत दर्ज करने वाली अपनी शुरुआती टीम में कोई बदलाव नहीं किया।

अफगानिस्तान ने श्रीलंका को 5-0 से हराने वाली टीम में दो बदलाव किए। शुरू में अफगानिस्तान ने दबदबा बनाने की कोशिश की, लेकिन भारतीय टीम ने धीरे-धीरे पकड़ बनानी शुरू की। दोनों टीमें हालांकि मध्यांतर गोल करने में नाकाम रही। भारत का भाग्य ने साथ नहीं दिया, जो 14वें मिनट में वह बढ़त नहीं बना पाया। स्ट्राइकर जेजे का हेडर क्रास बार से टकराकर वापस आ गया। इससे पहले सातवें मिनट में भारतीय गोलकीपर गुरप्रीत सिंह ने मुस्तफा जजाई का शॉट रोका था। इसके चार मिनट बाद उन्होंने अफगान कप्तान फैसल सायेस्त के कॉर्नर को रोका। दोनों टीमों ने मध्यांतर के बाद भी टीम में कोई बदलाव नहीं किया।


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement

 
 

Advertisement