NDTV Khabar

साइना नेहवाल ने पूर्व कोच गोपीचंद से मतभेद भुलाए, अब उनकी अकादमी में करेंगी ट्रेनिंग

देश की स्‍टार शटलर साइना नेहवाल ने फिर अपने कोच पी. गोपीचंद की 'शरण' में पहुंच गई हैं. लंदन ओलिंपिक की ब्रॉन्‍ज मेडलिस्‍ट शटलर साइना नेहवाल ने अपने ‘भविष्य के लक्ष्यों’ को हासिल करने के उद्देश्य से पूर्व कोच पुलेला गोपीचंद की अकादमी में ट्रेनिंग करने का फैसला किया है.

85 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
साइना नेहवाल ने पूर्व कोच गोपीचंद से मतभेद भुलाए, अब उनकी अकादमी में करेंगी ट्रेनिंग

साइना नेहवाल ने हाल ही में विश्‍व बैडमिंटन चैंपियनशिप में कांस्‍य पदक जीता था (फाइल फोटो)

खास बातें

  1. साइना नेहवाल ने ट्वीट करके इस बात की दी जानकारी
  2. कहा-खुशी है कि गोपी सर फिर से मेरी मदद के लिए सहमत हुए
  3. पिछले तीन वर्षों में विमल सर ने भी मेरी काफी मदद की
नई दिल्ली: देश की स्‍टार शटलर साइना नेहवाल ने फिर अपने कोच पी. गोपीचंद की 'शरण' में पहुंच गई हैं. लंदन ओलिंपिक की ब्रॉन्‍ज मेडलिस्‍ट शटलर साइना नेहवाल ने अपने ‘भविष्य के लक्ष्यों’ को हासिल करने के उद्देश्य से पूर्व कोच पुलेला गोपीचंद की अकादमी में ट्रेनिंग करने का फैसला किया है. साइना ने सोमवार को अपने ट्विटर हैंडल पर इसकी घोषणा की. साइना ने कहा, ‘कुछ समय से मैं अपना ट्रेनिंग बेस गोपीचंद अकादमी में बनाने के बारे में सोच रही हूं और मैंने इसके बारे में गोपी सर से भी चर्चा की और मैं शुक्रगुजार हूं कि उन्होंने दोबारा से मेरी मदद करने पर सहमति जता दी है.’

यह भी पढ़ें : साइना बोलीं, फिटनेस ठीक रही तो फिर से बन सकती हूं वर्ल्‍ड नंबर वन

उन्होंने कहा, ‘अपने करियर के इस चरण में, मुझे लगता है कि वह मेरे लक्ष्यों को हासिल करने में मेरी मदद कर सकते हैं.’ 27वर्षीय चैम्पियन शटलर ने इंचियोन 2014 एशियाई खेलों से पहले राष्ट्रीय कोच गोपीचंद से अलग होने और बेंगलुरू में विमल कुमार के मार्गदर्शन में ट्रेनिंग करने का फैसला किया था.

यह भी पढ़ें : विमल कुमार बोले, भारतीय बैडमिंटन एकजुट, दरार जैसी बात कहीं नहीं है

साइना ने लिखा, ‘मैं विमल सर की भी बहुत शुक्रगुजार हूं कि जिन्होंने पिछले तीन वर्षों में मेरी मदद की. उन्होंने मुझे विश्व की नंबर एक रैंकिंग में पहुंचने में सहायता की और साथ ही विश्व चैम्पियनशिप में दो पदक, 2015 में रजत और 2017 में कांस्य दिलाने तथा कई सुपर सीरीज खिलाब हासिल करने में मदद की.’अपने गृहनगर हैदराबाद में वापसी से खुश साइना ने अपने दोस्तों से खुद का समर्थन जारी रखने का आग्रह किया. उन्होंने ट्वीट में लिखा, ‘गृहनगर हैदराबाद में ट्रेनिंग करने को लेकर मैं बहुत खुश हूं, मेरा समर्थन करते रहना दोस्तों.’


साइना डेनमार्क में 2014 विश्व बैडमिंटन चैम्पियनशिप के क्वार्टरफाइनल में हारने के बाद गोपीचंद से अलग हो गई थीं जो पहली बार हुआ था. गौरतलब है कि साइना और गोपीचंद के बीच मतभेद की खबरें मीडिया में सुर्खियों में रही थीं लेकिन दोनों ने ही सार्वजनिक तौर पर इस मसले पर टिप्‍पणी नहीं की थी.

वीडियो: साइना बनीं स्‍पोर्ट्स पर्सन ऑफ द ईयर


वर्ष 2011 में साइना ने भास्कर बाबू के साथ ट्रेनिंग शुरू की थी लेकिन अपने फैसले पर पछताते हुए तीन महीने के अंदर गोपीचंद अकादमी में लौट गई थीं. वर्ष 2012 में गोपीचंद के मार्गदर्शन में ही साइना ने लंदन ओलिंपिक में मेडल जीता था.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement