NDTV Khabar

साक्षी मलिक, विनेश फोगाट, दिव्या ककरान को एशियाई कुश्ती चैंपियनशिप में रजत पदक

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
साक्षी मलिक, विनेश फोगाट, दिव्या ककरान को एशियाई कुश्ती चैंपियनशिप में रजत पदक
नई दिल्‍ली: रियो ओलिंपिक की कांस्य पदकधारी साक्षी मलिक सहित तीन महिला पहलवानों ने शुक्रवार को यहां एशियाई कुश्ती चैंपियनशिप के अपने वजन वर्गों में रजत पदक जीता. तीनों भारतीय महिला पहलवान जापान की प्रतिद्वंद्वियों से हार गईं, जो उनके लिए काफी मजबूत साबित हुईं.

रितु फोगाट को महिला 48 किग्रा वर्ग में कांस्य पदक मिला, क्‍योंकि उनकी प्रतिद्वंद्वी चीन की सुन यनान ने चोट के कारण तीसरे स्थान के प्ले आफ से हटने का फैसला किया.

साक्षी (60 किग्रा) और दिव्या ककरान (69 किग्रा) हालांकि स्वर्ण पदक के मुकाबले में छह मिनट की पूरी बाउट भी नहीं खेल सकीं, जबकि विनेश फोगाट (55 किग्रा) ने हारने से पहले कड़ी चुनौती पेश की.

ओलिंपिक के बाद अंतरराष्ट्रीय सर्किट में वापसी कर रही साक्षी लय में नहीं दिखी और उन्हें रियो ओलिंपिक के 63 किग्रा वर्ग की स्वर्ण पदक विजेता जापान की रिसाकी कवाई के खिलाफ दो मिनट और 44 सेकेंड में ही 10-0 से शिकस्त का सामना करना पड़ा.

पिछले साल रियो में कांस्य पदक के साथ ओलिंपिक में पदक जीतने वाली पहली भारतीय महिला पहलवान बनकर इतिहास रचने वाली साक्षी जापान की अपनी मजबूत प्रतिद्वंद्वी का कोई चुनौती नहीं दे पाई.

वजन वर्ग बढ़ाने के बाद 58 किग्रा की जगह पहली बार 60 किग्रा वर्ग में हिस्सा ले रही साक्षी को फाइनल तक के सफर के दौरान बामुश्किल पसीना बहाना पड़ा.

24 साल की साक्षी ने क्वार्टर फाइनल में उज्बेकिस्तान की नबीरा एसेनबाएवा को 6-2 से हराने के बाद सेमीफाइनल में अयाअुलिम कासीमोवा को 15-3 से हराकर फाइनल में जगह बनाई. साक्षी ने पदक समारोह के बाद कहा, 'कवाई बहुत ही अनुभवी पहलवान है और ओलिंपिक स्वर्ण पदकधारी है. यह मेरे लिए काफी अच्छा सीखने वाला अनुभव रहा. मैं खुश हूं कि रियो ओलिंपिक और शादी के बाद वापसी के बाद मैंने रजत पदक अपने नाम किया. हालांकि मुझे लगता है कि मैं इससे बेहतर कर सकती थी'. विनेश भी चोट के कारण काफी लंबे समय बाद वापसी कर रही हैं, उन्होंने शुरू में जापानी पहलवाना साई नानजो को चुनौती दी, लेकिन अंत में उन्हें 4-8 से हारकर दूसरे स्थान से संतोष करना पड़ा.

उन्होंने क्वार्टरफाइनल में उज्बेकिस्तान की सेवारा एशमुरातोवा को 10-0 से और सेमीफाइनल में चीन की कि झांग को 4-0 से पराजित कर स्वर्ण पदक दौर में प्रवेश किया था.

विनेश हालांकि आमतौर पर 48 किग्रा या 53 किग्रा में भाग लेती हैं, लेकिन उन्‍होंने एशियाई चैंपियनशिप में 55 किग्रा में भाग लेने का फैसला किया. उन्होंने कहा कि इस वजन वर्ग में रजत पदक जीतकर वह खुश हैं.

टिप्पणियां
पिछले साल के रियो ओलिंपिक के बाद वापसी करने वाली विनेश ने यह भी साफ किया कि वह अपने 48 किग्रा वर्ग में वापसी करेंगी, उन्होंने कहा, 55 किग्रा वर्ग में भाग लेना और रजत पदक जीतना संतोषजनक है. मैं वापसी कर खुश हूं.

(इनपुट भाषा से)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement