NDTV Khabar

जश्न मनाने का समय नहीं, मुक्केबाज शिवा की नजरें विश्व चैंपियनशिप पर

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
जश्न मनाने का समय नहीं, मुक्केबाज शिवा की नजरें विश्व चैंपियनशिप पर

खास बातें

  1. एशियाई मुक्केबाजी चैंपियनशिप में स्वर्ण पदक जीतने वाले सबसे युवा भारतीय बने शिवा थापा के पास जश्न मनाने की फुर्सत नहीं है, क्योंकि उन्होंने अपनी नजरें अक्टूबर में होने वाली विश्व चैंपियनशिप पर लगा रखी है।
नई दिल्ली:

एशियाई मुक्केबाजी चैंपियनशिप में स्वर्ण पदक जीतने वाले सबसे युवा भारतीय बने शिवा थापा के पास जश्न मनाने की फुर्सत नहीं है, क्योंकि उन्होंने अपनी नजरें अक्टूबर में होने वाली विश्व चैंपियनशिप पर लगा रखी है।

शिवा (56 किलो) के स्वर्ण के अलावा एल देवेंद्रो सिंह (49 किलो) और मनदीप जांगड़ा (69 किलो) ने रजत पदक जीते, जबकि मनोज कुमार (64 किलो) को कांस्य से संतोष करना पड़ा। भारत तालिका में दूसरे स्थान पर रहा। भारतीय टीम बुधवार तड़के जोर्डन के अम्मान से एशियाई मुक्केबाजी चैंपियनशिप में भाग लेकर यहां लौटी।

टिप्पणियां

शिवा ने कहा, जश्न मनाने का समय ही किसके पास है... मैं तीन-चार दिन के लिए घर जाऊंगा और फिर विश्व चैंपियनशिप की तैयारी के लिए पटियाला चला जाऊंगा। उन्होंने कहा, जश्न तो बाद में भी मनाया जा सकता है। अब समय फोकस करके कड़ी मेहनत करने का है, क्योंकि विश्व चैंपियनशिप पदक की बात ही कुछ और है।


विश्व चैंपियनशिप कजाखस्तान के अलमाटी में 11 से 27 अक्टूबर के बीच होगी। इसके लिए भारतीय टीम का चयन अगले महीने पटियाला में किया जाएगा। राष्ट्रीय कोच गुरबख्श सिंह संधू ने सभी खिलाड़ियों की तारीफ करते हुए कहा, मेरे किसी लड़के ने मुझे निराश नहीं किया... बतौर कोच मुझे इस प्रदर्शन पर गर्व है और मैं काफी संतुष्ट हूं।



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement