महान एथलीट उसेन बोल्‍ट का पहला प्‍यार था क्रिकेट, जानें 5 बातें

अपने अंतिम मैच में भले ही प्रतिद्वंद्वी जस्टिन गैटलिन के हाथों उनको उलटफेर का सामना करना पड़ा हो लेकिन बोल्‍ट के स्‍वर्णिम करियर की चमक आने वाले एथलीटों के लिए एक मिसाल होगी.

महान एथलीट उसेन बोल्‍ट का पहला प्‍यार था क्रिकेट, जानें 5 बातें

उसेन बोल्‍ट (फाइल फोटो)

'बिजली' की गति वाले अब तक धरती के सबसे तेज धावक उसेन बोल्‍ट ने भले ही संन्‍यास लेकर अपने करियर पर विराम लगा दिया है लेकिन वह इस दौर के सबसे महान एथलीट रहे है. अपने अंतिम मैच में भले ही प्रतिद्वंद्वी जस्टिन गैटलिन
के हाथों उनको उलटफेर का सामना करना पड़ा हो लेकिन बोल्‍ट के स्‍वर्णिम करियर की चमक आने वाले एथलीटों के लिए एक मिसाल होगी. उसेन बोल्‍ट ने भले ही एथलेटिक्‍स की दुनिया में नाम कमाया लेकिन उनके शब्‍दों में यदि कहा जाए तो क्रिकेट उनका पहला प्‍यार था. यानी पहले वह क्रिकेटर ही बनना चाहते थे. बोल्‍ट के ऐसे ही अनछुए पहलुओं पर एक नजर:

1. उसेन बोल्‍ट जमैका के एक छोटे से कस्‍बे से ताल्‍लुक रखते हैं. उनके पिता की अब भी किराना की दुकान है और कस्‍बे के लोगों की जरूरत का सामान यहां मिलता है. इस तरह एक साधारण परिवार से ताल्‍लुक रखने वाले उसेन बोल्‍ट की कामयाबी की इबारत दूसरों के लिए मिसाल है.

यह भी पढ़ें: बोल्ट को पीछे छोड़ने वाले जस्टिन गैटलिन का विवादों से रहा है नाता

2. जमैका के जिस शेरवुड कंटेंट से मूल रूप से ताल्‍लुक रखते हैं. उस इलाके में पानी की बेहद समस्‍या है. बोल्‍ट के अंतरराष्‍ट्रीय फलक पर छाने के बाद इस इलाके की बदहाली को दुरुस्‍त करने का सरकार ने काम किया है. इससे इस क्षेत्र के लोगों की परेशानियां कुछ कम हुई हैं. इन सब वजहों से वह अपने इलाके के हीरो हैं.  

3. पाकिस्‍तानी गेंदबाज वकार युनूस उनके पसंदीदा क्रिकेटर हैं. उसेन उनसे प्रेरित होकर पहले बॉलर ही बनना चाहते थे.

यह भी पढ़ें : बोल्‍ट, फेल्‍प्‍स की विदाई से सूना होगा ओलिंपिक, क्‍या टोक्‍यो में मिलेगा 'नया हीरो'

4. उसेन को खाने का बेहद शौक है. कहा जाता है कि बीजिंग ओलंपिक में 100 मीटर फर्राटा दौड़ में वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाने से पहले बोल्ट ने चिकन नगेट्स खाए थे.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

VIDEO: उसेन बोल्‍ट ने रचा इतिहास

5. बोल्ट ने लगातार तीन ओलंपिक खेलों में एथलेटिक्‍स की तीन इवेंट में गोल्ड मेडल जीतकर इतिहास रचा है. रियो ओलिंपिक (2016) तक उनका जलवा बरकरार रहा. उन्होंने 100 मीटर और 200 मीटर रेस में भी गोल्ड मेडल जीता.