ख़िताब बचाने के लिए दिल्ली में फिर फाइट करेंगे बॉक्‍सर विजेंदर सिंह..

ख़िताब बचाने के लिए दिल्ली में फिर फाइट करेंगे बॉक्‍सर विजेंदर सिंह..

विजेंदर सिंह (फाइल फोटो)

खास बातें

  • अब तक सात में से सात मुकाबले जीत चुके हैं विजेंदर सिंह
  • इनमें से छह मुकाबले टेक्‍नीकल नॉकआउट आधार पर जीते हैं
  • अगले मुकाबले के लिए मैनचेस्‍टर में कर रहे हैं कड़ी मेहनत
नई दिल्‍ली:

ओलिंपिक पदक विजेता बॉक्सर विजेंदर सिंह ने क़रीब 4 महीने पहले दिल्ली के त्यागराज स्टेडियम में ऑस्ट्रेलियाई मुक्केबाज़ कैरी होप को हराकर WBO का ख़िताब अपने नाम कर भारतीय प्रोफ़ेशनल बॉक्सिंग के लिए एक नई उम्मीद जगाई थी. विजेंदर फिर तैयार हो रहे हैं. इस बार भी मुक़ाबला दिल्ली के त्यागराज स्टेडियम में ही  17 दिसंबर को खेला जाएगा-.इस बार वो अपना WBOएशिया पैसिफिक सुपर मिडिलवेट चैंपियन ख़िताब बचाने के लिए रिंग में उतरेंगे. पूरी उम्मीद है कि इस बार भी उनकी मुक्केबाज़ी को लेकर ग्लैमर का बाज़ार और बड़ा हो जाएगा.

 
त्यागराज स्टेडियम में अपनी पिछली फाइट में विजेंदर ने कैरी होप को हराया था.
 
अब तक 7 में 7 मुक़ाबले जीत चुके विजेंदर का रिकॉर्ड शानदार है. उन्हें किस मुक्केबाज़ के ख़िलाफ़ रिंग में उतरना होगा, ये तस्वीर साफ़ नहीं हुई है. विजेंदर ने अपने 7 में से 6 मुक़ाबलों में टेक्नीकल नॉक आउट के ज़रिये जीत हासिल की. सातवें मैच में उन्हें 10 राउंड तक कैरी होप को टक्कर देनी पड़ी थी, तब जाकर उन्हें एक मुश्किल जीत हासिल हुई थी. क़रीब 6000 दर्शकों की मौजूदगी में हासिल विजेंदर की इस जीत का फ़ायदा दूसरे भारतीय प्रोफ़ेशनल मुक्केबाज़ों को कितना हासिल हुआ, ये सवाल ज़रूर बड़ा बना हुआ है.
 
विजेंदर की प्रोमोटर कंपनी आईओएस का इसका बड़ा फ़ायदा ज़रूर हुआ. उनकी फ़ाइट को देखने बॉलीवुड के अलावा, क्रिकेट और राजनीति जगत की नामचीन हस्तियां तो पहुंची ही, माना जा रहा है कि उस फ़ाइट को 15 बड़े ब्रैंड ने भी मदद की. इस मसले पर विजेंदर सिंह का बयान भी जारी किया गया है. उन्‍होंने कहा है, "मैं दो महीने से मैनचेस्टर (UK) में कड़ी मेहनत कर रहा हूं. मेरे ट्रेनर मुझसे कड़ी मेहनत करवा रहे हैं, जिससे मेरे पंच की ताक़त और बढ़ गई है. WBO मुझे जिससे लड़ने को कहेगा मैं  लड़ने को तैयार हूं. मुझे पूरा भरोसा है कि मैं अपना ख़िताब बचा पाऊंगा. 17 दिसंबर को मैं इतिहास दोहराना चाहता हूं."
 
विजेंदर के प्रोमोटर नीरव तोमर और फ़्रांसिस वॉरेन उनसे और बड़ी उम्मीद रख रहे हैं. फ़्रांसिस वॉरेन विजेंदर की मेहनत से खुश नज़र आ रहे हैं. उनका मानना है कि अगले मुक़ाबलों को जीतकर वो दुनिया के टॉप 10 मुक्केबाज़ों में शामिल हो सकते हैं. उनकी नज़र दुनिया के टॉप बॉक्सर्स डुन और कैमरून, अब्राहम और क्रासनिकि तथा ग्रोव्स और गुटेनेक की फ़ाइट पर है. विजेंदर के प्रोमोटर उनसे 2017 में और भी इतिहास बनाने की उम्मीद कर रहे हैं. विजेंदर के फ़ैन्स को भी उन पर उतना ही भरोसा है. लेकिन इन सबका फ़ायदा भारत के दूसरे युवा प्रोफ़ेशनल बॉक्सर्स भी उठा पाएं इसके लिए आयोजकों को एड़ी-चोटी का ज़ोर लगाने की ज़रूरत दिखती है.
Newsbeep

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com