प्रो-बॉक्सिंग के ज़रिये रियो के दरवाज़े पर विकास की दस्तक

प्रो-बॉक्सिंग के ज़रिये रियो के दरवाज़े पर विकास की दस्तक

नई दिल्‍ली:

भारत के ओलिंपिक पदक विजेता और प्रो-बॉक्सिंग स्टार विजेंद्र सिंह दिल्ली में 16 जुलाई को एशियाई चैंपियन बनने के लिए ख़िताबी लड़ाई लड़ेंगे। उससे पहले शनिवार की शाम विकास कृष्ण ने प्रो-बॉक्सिंग के लिए कमर कस ली है।

नोएडा के एक मॉल में आईबा (अंतरराष्ट्रीय मुक्केबाज़ी संघ) और प्रोफ़ेशनल बॉक्सिंग आर्गेनाइज़ेशन्स (PBOI) के सहयोग से हो रहे इस प्रो-फ़ाइट में भिवानी (हरियाणा) के विकास की टक्कर केन्या के निकलसन अबाका से होगी। इसके ज़रिये विकास ओलिंपिक्स का टिकट हासिल करने की योजना बना रहे हैं। विकास अब तक रियो के लिए क्वालिफ़ाई नहीं कर पाए हैं। अब तक सिर्फ़ एक भारतीय मुक्केबाज़ शिवा थापा ने रियो के लिए अपनी जगह पक्की की है।

Newsbeep

एशियाई खेलों में (2010 गुआंगझोऊ) में गोल्ड और वर्ल्ड चैंपियनशिप (2011, बाकु, अज़रबैजान) में कांस्य जीतने वाले विकास को एक बेहद प्रतिभाशाली मुक्केबाज़ माना जाता है। 24 साल के इस बाएं हाथ के मुक्केबाज़ को कम से कम दो ऐसे मुक़ाबलों में हिस्सा लेना पड़ेगा ताकि उन्हें 16 जून से अज़रबैजान में होने वाली क्वालिफ़ाइंग प्रतियोगिता के अलावा वेनेज़ुएला में होने वाली प्रतियोगिता में क्वालिफ़ाई करने का मौक़ा मिल सके।

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


शनिवार को नोएडा में होने वाली प्रोफ़ेशनल फ़ाइट में 6 राउंड के मुक़ाबले होंगे। दरअसल अंतरराष्ट्रीय बॉक्सिंग संघ ने प्रोफ़ेशनल बॉक्सिंग के ज़रिये ओलिंपिक्स का रास्ता खोल कर भारत में इस खेल की संभावनाएं भी बढ़ा दी हैं। भारतीय बॉक्सिंग संघ अगर जल्दी ही अपने हालात सुधारकर एक मज़बूत खेल संघ बन पाता है तो इन खेलों को यहां नई दिशा मिल सकती है।