डब्ल्यूबीओ एशिया खिताब मेरे लिए बड़ी चीज नहीं: मुक्‍केबाज विजेंदर

डब्ल्यूबीओ एशिया खिताब मेरे लिए बड़ी चीज नहीं: मुक्‍केबाज विजेंदर

विजेंदर सिंह का फाइल फोटो

खास बातें

  • विजेंदर ने अपने सभी मुकाबले नॉकआउट के जरिये जीते हैं
  • दस राउंड के मुकाबले में सातवें नॉकआउट पर नजरें लगाए बैठे हैं विजेंदर
  • शनिवार रात होना है मुकाबला
नई दिल्‍ली:

यह भले ही विजेंदर सिंह के उभरते हुए पेशेवर करियर का सबसे बड़ा मुकाबला हो लेकिन भारत के इस स्टार मुक्केबाज ने कहा कि कैरी होप के खिलाफ डब्ल्यूबीओ एशिया खिताबी मुकाबला उनके लिए बहुत बड़ी चीज नहीं है और वह इसे सर्किट में पांव जमाने के लिए एक अन्य मौके की तरह देख रहे हैं।

पेशेवर सर्किट में अब तक अजेय 30 साल के विजेंदर ने अपने सभी मुकाबले नॉकआउट के जरिये जीते हैं। दस राउंड के मुकाबले में सातवें नॉकआउट पर नजरें लगाए बैठे विजेंदर ने कहा कि इस मैच के लिए उनका रवैया पिछले मैचों से अलग नहीं होगा।

शनिवार रात होने वाले मुकाबले से पूर्व विजेंदर ने कहा, ''मैंने अपने सभी छह मुकाबले जीते हैं, सर्किट में एक साल में मैं सातवां मुकाबला खेल रहा हूं। अब मैं पेशेवर हूं, मैं अब पेशेवर की तरह महसूस कर रहा हूं।''

उन्होंने कहा, ''शनिवार रात होने वाला मुकाबला मेरे लिए करो या मरो की तरह नहीं है। इसे बड़े मुकाबले की तरह तैयार किया गया है लेकिन मेरे लिए यह किसी अन्य मुकाबले की तरह है। रिंग पर उतरिये, मुकाबला जीतिये, वापस आइये और अगले मुकाबले पर ध्यान लगाइए। मुझे काफी कुछ करना है, यह मुकाबला मेरे करियर में एक और कदम की तरह है। मुझे नहीं लगता कि यह मेरे लिए बड़ी बात है।''

Newsbeep

विजेंदर के प्रतिद्वंद्वी होप को 30 मुकाबलों का अनुभव है जिसमें से उन्होंने 23 में जीत दर्ज की है और इसमें दो मुकाबले उन्होंने नाकआउट से जीते। वेल्स में जन्मे होप ऑस्‍ट्रेलिया में बस गए हैं। होप डब्ल्यूबीसी मिडलवेट चैंपियन हैं और विजेंदर से भिड़ने के लिए वह एक वर्ग ऊपर सुपर मिडलवेट में हिस्सा ले रहे हैं।

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)